1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

प्रेजिडेंशल डिबेट में डॉनल्ड ट्रंप ने बोले कई झूठ

अमेरिका में हिलेरी क्लिंटन और डॉनल्ड ट्रंप के बीच पहली डिबेट खत्म हो गई है. डेढ़ घंटे चली अमेरिका की पहली प्रेजिडेंशल डिबेट की चर्चा ट्रंप के झूठ के कारण हो रही है.

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की अब तक की शायद सबसे विवादास्पद और चर्चित प्रेजिडेंशल डिबेट के बाद दुनिया में चर्चा इस बात की हो रही है कि रिपब्लिकन उम्मीदवार डॉनल्ड ट्रंप ने कितने झूठ बोले. ट्रंप ने डिबेट में कई बार गलतबयानी की और अपनी ही कही बातों से मुकर गए. ऐसा डिबेट के पहले 15 मिनट के अंदर ही हो गया, जब वह ग्लोबल वॉर्मिंग को षडयंत्र बताने वाले अपने बयान से मुकर गए.

पहला झूठ

डिबेट के दौरान ट्रंप ने कहा कि वह ग्लोबल वॉर्मिंग को एक झूठा षड्यंत्र नहीं मानते और ऐसा उन्होंने कभी नहीं कहा. लेकिन एक से ज्यादा बार ट्रंप ऐसा कह चुके हैं. उन्होंने इस बारे में कई बार ट्वीट किया है कि ग्लोबल वॉर्मिंग एक अफवाह है जिसे चीन ने जन्म दिया है. बीते साल सितंबर में सीएनएन को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि वह क्लाइमेट चेंज में विश्वास नहीं करते.

 

दूसरा झूठ

प्रेजिडेंशल डिबेट के दौरान जब बात अमेरिकी विदेश नीति की आई तो डॉनल्ड ट्रंप ने कहा कि इराक पर हमला करना एक गलत कदम था और वह हमेशा इसके खिलाफ रहे हैं. उन्हें फौरन टोका गया कि वह तो इराक युद्ध के समर्थक थे. इस पर उन्होंने कहा कि वह कभी इराक युद्ध के समर्थक नहीं रहे. लेकिन यह गलतबयानी थी. कई इंटरव्यू के दौरान उन्होंने इराक पर अमेरिकी हमले का समर्थन किया था. तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश के इराक हमले के फैसले के कुछ ही दिन बाद फॉक्स टीवी को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, "सेना की दृष्टि से तो यह एक जोरदार सफलता लगती है."

तीसरा झूठ

डॉनल्ड ट्रंप इस बात से भी मुकर गए कि उन्होंने कर्मचारियों की प्रेग्नंसी को एक परेशानी बताया था. जब डिबेट के दौरान डेमोक्रैट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने यह बात उठाई तो ट्रंप ने कहा, "मैंने ऐसा कभी नहीं कहा." लेकिन यह सच नहीं है. उन्होंने 2004 में दिए एक इंटरव्यू में साफ साफ कहा था कि यह एक परेशानी है. ट्रंप के शब्द थे, "प्रेग्नेंसी एक शानदार चीज है लेकिन बिजनस के लिए यह एक परेशानी है."

तस्वीरों में: देखिए, क्या क्या बोल जाते हैं ट्रंप

डॉनल्ड ट्रंप के बारे में अमेरिकी मीडिया ने डिबेट के बाद लिखा है कि 90 मिनट की डिबेट में उन्होंने लगातार गलत तथ्य पेश किए और अपने ही बयानों से मुकर गए. सीएनएन ने अपनी एक खबर में लिखा है, "'स्टेज पर सिर्फ 90 मिनट में ट्रंप ने बेहयाई के साथ कई झूठे दावे किए जबकि क्लिंटन तथ्यों पर टिकी रहीं."

रिपोर्ट: विवेक कुमार


यह भी जानिए कि कितने अमीर है ट्रंप

 

DW.COM

संबंधित सामग्री