1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

तीन यात्रियों के साथ अंतरिक्ष रवाना हुआ यान

अलग अलग देशों के तीन सदस्यों वाले एक रूसी सोयूज रॉकेट को कजाखस्तान से अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन के लिए रवाना किया गया है. नासा टीवी ने इस लॉन्च का प्रसारण किया.

नासा की कैथेलीन 'कैट' रुबिंस, रूस के एनातोली इवानिशिन और जापान के टाकुया ओनिशी ने गुरुवार को रसियन सोयूज रॉकेट में कजाखस्तान के बैकोनूर कास्मोड्रोम से अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन के लिए उड़ान भरी. नासा टीवी में हुए लॉन्च के प्रसारण के दौरान उद्घोषक ने बताया कि रूसी फ्लाइट कंट्रोलर ने यात्रियों को संदेश दिया, ''आप लोगों को शुभकामनाएं.''

4 महीने के अभियान में गए इन यात्रियों को निर्धारित तौर पर जीएमटी के मुताबिक शनिवार 4 बजकर 12 मिनट पर पृथ्वी से तकरीबन 400 किमी उपर मौजूद अंतराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पर पहुंच जाना है.

लॉंन्च से पहले नासा में अपने एक साक्षात्कार के दौरान रूबिंस का कहना था, ''मैं उन जीव​विज्ञानी प्रयोगों के लिए बेहद उत्साहित हूं जो हम वहां करने जा रहे हैं.'' कैंसर और संक्रमित रोगों पर शोध करने वाली रूबिंस की योजना ऑर्बिट में डीएनए अनुक्रमण की पहली कोशिश करने की है. ये तीनों अंतरिक्षयात्री, अंतराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन में मार्च से ही मौजूद नासा के अं​तरिक्षयात्री और स्टेशन कमांडर जेफ विलियम्स और दो रूसी अंतरिक्षयात्रियों के साथ शामिल होंगे. इवानिशिन पहले भी एक बार अंतराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन में जा चुके हैं. रूबिंस और ओनिशी के लिए अंतरिक्ष में जाने का यह पहला मौका है.

इस लॉंन्च में पहली बार नई जनरेशन के रसियन सोयूज कैप्सूल का इस्तेमाल किया गया है. सोयूज कैप्सूल अभी के दौर में एकमात्र ऐसा यान है जो कि क्रू मैंबर्स को स्टेशन तक ले जा सकता है. इस परियोजना में 15 देशों ने कुल मिलाकर 100 अरब डॉलर का खर्च किया है.

Kasachstan Start Sojus-Rakete zur ISS Kathleen Rubins

कैथेलीन 'कैट' रुबिंस

माक्रोमेटेरॉयड और अंतरिक्ष में तैर रहे मलबे से सुरक्षा के लिए नई जनरेशन के इस सोयूज कैप्सूल में और बेहतर शील्डिंग की गई है. साथ ही अतिरिक्त बैट्री, संचार उपकरण, नए स्टीयरिंग थ्रस्टर्स, बड़े सोलर ओरेज और जीपीएस युक्त लैंडिंग सिस्टम को भी लगाया गया है.

नासा ने 2018 तक अमेरिका से भी चालक दल के साथ उड़ान भरने वाला एक यान बना लेने की उम्मीद जताई की है. यह बोइंग कंपनी और निजी कंपनी स्पेस एक्सप्लोरेशन टेक्नोलाजीज यानि स्पेस एक्स तैयार करेंगे. एक नए व्यावसायिक अमेरिकी अंतरिक्ष यान को अंतरिक्ष में पार्क करने के लिए एक डॉकिंग सिस्टम की जरूरत होगी. 18 जुलाई को इसे स्पेस एक्स कार्गो शिप के जरिए अंतरिक्ष स्टेशन में भेजने की योजना है.

आरजे/ओएसजे (रॉयटर्स, एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री