1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अब गुरुग्राम में महिला को कार में खींचने की कोशिश

बेंगलुरु में महिलाओं के साथ हुई छेड़खानी की घटना शायद ही किसी के जहन से उतरी हो, लेकिन वैसी ही एक घटना और हो गई है. इस बार दिल्ली के पास गुरुग्राम में.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम में सोमवार शाम एक महिला को एसयूवी में सवार कुछ पुरुषों ने जबरदस्ती गाड़ी के अंदर खींचने की कोशिश की.

यह 26 वर्षीय महिला शहर की एक आईटी कंपनी में काम करती हैं. उन्होंने फेसबुक पोस्ट में बताया कि सोमवार शाम जब वह कैब बुक करने के लिए इफको चौक बस स्टॉप के पास मोबाइल में बेहतर सिग्नल तलाश कर रही थीं, उसी दौरान एक स्कॉरपियो गाड़ी उनके पास आकर रुकी और गाड़ी में पीछे की सीट पर बैठे एक आदमी ने उन्हें अंदर खींचने की कोशिश की. साइबरसिटी स्थित एक आईटी कंपनी में काम करने वाली इस महिला ने घर पहुंचकर इस पूरी घटना को फेसबुक पर पोस्ट किया.

यह भी देखिए, क्यो होती हैं कंफर्ट विमिन

मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि शाम के 7 बजे उस भीड़भाड़ वाले इलाके में उनकी मदद के लिए कोई भी आगे नहीं आया. उन्होंने कहा कि वह पुलिस में शिकायत दर्ज करना चाह रही थीं लेकिन वह यही सोचती रहीं कि ऐसा करने से उनके मां-बाप परेशान हो जाएंगे और उन्हें उनके घर जयपुर वापस आने को कहेंगे. लेकिन उन्होंने घर आकर एक फेसबुक पोस्ट लिखा और गुरुग्राम के वुमन कम्यूनिटी पेज के साथ भी इसे साझा किया ताकि अन्य महिलाओं को सतर्क किया जा सके. हाल में बेंगलूरु में महिलाओं के साथ हुई छेडखानी की घटना के कुछ दिन बाद ही यह मामला सामने आया है.

महिला ने लिखा कि एक पल तो मुझे समझ ही नहीं आया कि मेरे साथ क्या हुआ. इसके बाद मैं फौरन उस ओर भागी जहां महिलाएं थीं. उन्होंने बताया कि इस पूरे मसले की ऑनलाइन शिकायत दर्ज करने की कोशिश भी उन्होंने की थी, लेकिन वे इसे दर्ज नहीं कर सकीं क्योंकि उनके पास पूरी जानकारी नहीं थी, मसलन गाड़ी का नंबर और गाड़ी की अन्य जानकारी. महिला के मुताबिक वह बाद में वापस उस जगह यह देखने भी गईं कि शायद वहां कोई सीसीटीवी कैमरा हो लेकिन रोशनी कम होने की वजह से शायद ही कुछ कैमरे की कैद हुआ होगा.

तस्वीरों में: देश जागा और फिर सो गया

गुरुग्राम के 17/18 सेक्टर पुलिस स्टेशन के एसएचओ राम कुमार ने महिला से शिकायत दर्ज करने को कहा है साथ ही यह भरोसा भी दिलाया है कि पुलिस हरसंभव तरीके से उनकी मदद करेगी. कुमार ने कहा कि वह चाहे तो अपनी शिकायत फोन या ऑनलाइन किसी भी माध्यम से दर्ज करा सकती हैं जिसके बाद हम जांच शुरू कर देंगे.

वहीं मंगलवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने एक संबोधन में कहा कि लोगों को महिलाओं के खिलाफ बढ़ती हिंसा और सड़क दुर्घटनाओं के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए स्वयं में संवेदनशीलता और सकारात्मक भावनाएं लानी होंगी. उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था विश्व की तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्थाओं में से एक है लेकिन 158 देशों पर तैयार की गई वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट में हम 117वें स्थान पर है.

DW.COM

संबंधित सामग्री