1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

‘ब्रिटेन बाहर जा रहा है, पर ईयू टूटेगा नहीं’

बुधवार को अपने भाषण में युंकर ने यूरोपीय संघ के नेताओं को भरोसा दिलाने की कोशिश की कि ब्रिटेन के फैसले से भले ही एक तरह की अनिश्चितता पैदा हुई लेकिन यूरोपीय संघ टूटने वाला नहीं है.

जब से ब्रिटेन ने यूरोपीय संघ से बाहर जाने का फैसला किया है, तब से 28 देशों वाले यूरोपीय संघ को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं. लेकिन ब्रेक्जिट के बाद पहली बार अपनी स्टेट ऑफ द यूनियन स्पीच में यूरोपीय आयोग के प्रमुख ज्याँ क्लोद युंकर ने संघ के भीतर एकता बनाए रखने पर जोर दिया है.

बुधवार को अपने भाषण में युंकर ने यूरोपीय संघ के नेताओं को भरोसा दिलाने की कोशिश की कि ब्रिटेन के फैसले से भले ही एक तरह की अनिश्चितता पैदा हुई लेकिन यूरोपीय संघ टूटने वाला नहीं है.

कैसा कैसा एक्जिट: देखिए, टूटता संसार

स्ट्रासबुर्ग में यूरोपीय संसद में उन्होंने कहा, "हम ब्रिटेन के फैसले का सम्मान करते हैं लेकिन साथ ही हमें इसका अफसोस भी है. लेकिन इससे यूरोपीय संघ को किसी तरह का जोखिम नहीं है." उन्होंने ये भी कहा कि 23 जून को ब्रिटेन में हुए ब्रेक्जिट जनमत संग्रह को एक चेतावनी के तौर पर लिया जाना चाहिए कि राष्ट्रवाद से संघ का अस्तित्व खतरे में पड़ सकता है.

इस समय यूरोपीय संघ के सामने जहां ब्रिटेन के बाहर जाने का सवाल सामने खड़ा है, वहीं यूरोप में आंतकवाद का बढ़ता खतरा और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सबसे बड़ा प्रवासी संकट उसके लिए बड़ी चुनौती हैं.

युंकर ने अपने भाषण में यूरोप में समृद्धि और सुरक्षा के बढ़ाने वाले कदमों पर जोर दिया. इनमें सामरिक निवेश के लिए यूरोपीय कोष के विस्तार के साथ साथ अफ्रीका में प्राइवेट सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए एक नया कोष बनाना भी शामिल है ताकि वहां से यूरोप आने वाले लोगों की संख्या में कमी लाई जा सके.

तस्वीरों में, यूरोपीय संघ की टाइमलाइन

युंकर का यह भाषण शुक्रवार को ब्रातिसलावा में यूरोपीय संघ के 27 नेताओं से शिखर सम्मेलन से पहले आया है. इस सम्मेलन में भविष्य की योजना तैयार करने पर जोर होगा जिसमें ब्रिटेन के बिना अधिक सक्रिय यूरोपीय रक्षा नीति के लिए जर्मनी और फ्रांस की साझा पहल भी शामिल है.

DW.COM

संबंधित सामग्री