1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जापान की विशाल पोर्न इंडस्ट्री में बवाल के बाद माफीनामा

जापान की पोर्न इंडस्ट्री में बवाल हो गया है. वह बात जिस पर पहले कभी बात ही नहीं होती थी, अब सामने आ गई है. पोर्न इंडस्ट्री ने माफी मांगी है और कहा है कि कदम उठाए जाएंगे.

जापान की पोर्न फिल्म इंडस्ट्री ने औपचारिक तौर पर माफी मांगी है. ऐसे आरोप थे कि पोर्न फिल्मों में महिलाओं से जबरन सेक्स सीन कराए जा रहे हैं. जापान में पोर्न फिल्म इंडस्ट्री खरबों रुपये की है.

यह विवाद इस महीने की शुरुआत में खड़ा हुआ जब तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया. इन तीनों पर आरोप हैं कि उन्होंने एक महिला से करीब 100 पोर्न फिल्मों में जबरन काम कराया और यह शोषण कई साल तक चला. इस मामले पर काफी विवाद हो रहा है जिसके बाद फिल्म उद्योग के लोगों ने खुद आगे आकर माफी मांगी है. हालांकि विरोधियों ने इस माफीनामे का स्वागत किया है लेकिन साथ ही कहा है कि बात सिर्फ इतनी छोटी नहीं है बल्कि पूरी इंडस्ट्री में इस तरह की घटनाएं बहुतायत में हो रही हैं.

दिमाग के साथ क्या करता है पोर्न, जानें

मॉडलिंग से पोर्न तक

जापान की अडल्ट फिल्म इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी प्रमोशन असोसिएशन करती है. असोसिएशन ने एक बयान जारी किया है. इसमें कहा गया है कि हालात सुधारने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे. असोसिएशन ने कहा है, "निर्माताओं को इस बात के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा कि हालात सुधारने के लिए त्वरित कदम उठाएं. असोसिएशन को इस बात का बेहद अफसोस है कि हम इस तरह की शुरुआत करने में नाकाम रहे. हम इसके लिए माफी मांगते हैं."

जापान पुलिस ने इसी महीने की शुरुआत में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था. इनमें एक टैलेंट एजेंसी मार्क्स जापान का 49 वर्षीय एग्जेक्यूटिव भी था. पुलिस को शक था कि इस एजेंसी ने देश के श्रम कानूनों का उल्लंघन किया है. स्थानीय मीडिया के मुताबिक इस टैलेंट एजेंसी ने एक महिला से जबरन कई पोर्न वीडियो में काम करवाया. महिला को धमकाया गया कि अगर उसने काम नहीं किया तो कॉन्ट्रैक्ट के उल्लंघन के लिए उसे पेनल्टी देनी होगी. उस महिला ने सोचा था कि उसे मॉडलिंग का काम मिलेगा.

पोर्न स्टार से बने फिल्म स्टार

धोखे से कॉन्ट्रैक्ट

जापान में पोर्नोग्राफी काफी प्रसारित उद्योग है. हालांकि इस उद्योग के स्याह पहलुओं पर बात ना के बराबर होती है. इन्हीं पहलुओं पर रोशनी डालने के मकसद से सामाजिक कार्यकर्ताओं और वकीलों के एक गठजोड़ ने अधिकारियों से आग्रह किया है कि उद्योग में काम करने वाले लोगों के साथ होने वाली ज्यादतियों के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएं. कार्यकर्ताओं का कहना है कि मॉडल्स को धोखे से कॉन्ट्रैक्ट साइन करवाकर फंसाया जाता है और फिर उनके साथ ज्यादतियां होती हैं. कई बार तो इनमें नाबालिग भी होते हैं.

कुछ अभिनेत्रियों ने कहा है कि उन्हें बिना सुरक्षा के सेक्स करने के लिए भी मजबूर किया गया है. कई बार तो उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया और उसे शूट कर लिया गया. एक गैर सरकारी संस्था लाइटहाउस के लिए काम करने वाली शिहोको फुजीवारा ने उद्योग की ओर से जारी की गई माफी का स्वागत करने के साथ-साथ यह स्पष्ट किया है कि बहुत से पोर्न फिल्म निर्माता इस संगठन का हिस्सा नहीं हैं. उन्होंने बताया कि लगभग 20 फीसदी निर्माता तो इस संगठन से जुड़े ही नहीं हैं जिसने माफी मांगी है. उन्होंने कहा, "मेरे ख्याल से यह अपनी तरह की पहली माफी है लेकिन करीब 20 फीसदी निर्माता और अवैध काम करने वाले फिल्मकार तो इन नियमों के तहत आते ही नहीं हैं. इसलिए सरकार को ही कुछ कदम उठाने होंगे."

टोक्यो स्थिति एक संस्था ह्यूमन राइट्स नाउ के मुताबिक पोर्न इंडस्ट्री में ज्यादतियों का शिकार होने के बाद परामर्श के लिए आने वाली महिलाओं की तादाद में बीते साल 80 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई है.

वीके/आईबी (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री