1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूरोप में हमला करने की ताक में है आईएस: यूरोपोल

यूरोपीय पुलिस एजेंसी यूरोपोल ने कहा है कि इस्लामिक स्टेट ने यूरोप में ऐसे दर्जनों लोग जुटा लिए हैं जो यहां हमला करना को तैयार हैं. यह गुट लोगों में दहशत फैलाने के लिए सार्वजनिक जगहों को निशाना बना सकता है.

शुक्रवार को जारी एक रिपोर्ट में यूरोपोल ने कहा कि इस्लामिक स्टेट निकट भविष्य में यूरोपीय संघ के भीतर हमला कर सकता है. एजेंसी का कहना है कि सुन्नी आतंकवादी गुट आईएस के पास यूरोप में हमला करने की इच्छा और क्षमता, दोनों हैं. खास तौर से उन देशों में हमले हो सकते हैं जो इस्लामिक स्टेट के खिलाफ बने गठबंधन में शामिल हैं. सबसे ज्यादा हमले का खतरा फ्रांस, बेल्जियम, जर्मनी, नीदरलैंड्स और ब्रिटेन में बताया गया है.

रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि चूंकि सीरिया और इराक में सैन्य अभियानों के चलते इस्लामिक स्टेट कमजोर पड़ रहा है, इसलिए उसके विदेशी लड़ाके वापस यूरोप में अपने परिवारों के पास आ सकते है और इससे सुरक्षा को एक बड़ा खतरा पैदा होगा. अन्य आईएस लड़ाके लीबिया जा सकते हैं, जो विदेशी लड़ाकों की मंजिल बन गया है. लीबिया को उत्तरी अफ्रीका और यूरोप में हमले के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

परवान चढ़ता उग्र दक्षिणपंथ

यूरोपोल ने कहा है, "यूरोप से बड़ी मात्रा में कट्टरपंथी लोग इस्लामिक स्टेट में भर्ती हुए हैं. ऐसे लोगों की संख्या हजारों में है. इन लोगों की बड़ी संख्या में अपने घरों को वापसी एक बड़ा सुरक्षा खतरा है." रिपोर्ट में आशंका जताई गई कि यूरोप में ऐसे दर्जनों लोग हो सकते हैं जिनके पास आतंकवादी हमले करने की क्षमता है.

यूरोपोल के अनुसार यूरोप में हमला करने के लिए कार बम धमाके जैसे तरीके इस्तेमाल किए जा सकते हैं जो सीरिया और इराक में बहुत आम हैं. हमले में ऑटोमेटिक राइफल, धारदार हथियार या वाहनों को इस्तेमाल किया जा सकता है.

यूरोपोल की रिपोर्ट कहती है कि इस्लामिक स्टेट जैविक या रासायनिक हमला भी कर सकता है. बताया जाता है कि आईएस सीरिया और इराक में मस्टर्ड गैस तैयार करने में सक्षम है. यूरोपोल का कहना है कि इस्लामिक स्टेट अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए पुलिस, सेना या सुरक्षा वाले अन्य ठिकानों की बजाय आसान सार्वजनिक जगहों को निशाना बना सकता है.

एके वीके (रॉयटर्स, डीपीए)

जान हथेली पर लिए सीरिया से जर्मनी

DW.COM

संबंधित सामग्री