1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ट्विटर पर जल्द दिख सकता है बड़ा बदलाव

ट्विटर पर बड़ी बहस रही है कि 140 कैरेक्टर की लिमिट होनी चाहिए या नहीं. उसके चीनी प्रतिद्वंद्वी वाइबो ने तो लिमिट हटा दी. ट्विटर अब भी तैयार नहीं है, लेकिन कुछ बदल रहा है.

माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर यह बात समझ चुकी है कि 140 कैरेक्टर्स की लिमिट यूजर्स के लिए कितनी मुश्किल होती है. इसलिए इसमें ढील देने की बात काफी वक्त से चल रही है. इसकी शुरुआत हो गई है. ट्विटर ने बड़ा फैसला करते हुए लिमिट को थोड़ा सा बढ़ा दिया है.

अब तक अगर आप अपने ट्वीट में कोई लिंक डालते हैं या फोटो लगाते हैं तो उसे भी 140 में ही गिना जाता था. अब ऐसा नहीं होगा. ब्लूमबर्ग साइट की एक रिपोर्ट के मुताबिक अब लिंक्स और फोटो को 140 कैरक्टर्स की लिमिट से बाहर किया जा रहा है. ब्लूमबर्ग साइट ने एक सूत्र के हवाले से लिखा है कि ये बदलाव अगले दो हफ्ते के भीतर नजर आ सकते हैं. हालांकि ट्विटर ने इस पर अभी कोई टिप्पणी नहीं की है. लेकिन जनवरी में ट्विटर के संस्थापक जैक डोर्सी ने कहा था कि इस बात पर विचार किया जा रहा है कि यूजर्स कैसे लंबी पोस्ट डाल पाएं.

अभी जब ट्वीट करते वक्त कोई लिंक डाला जाता है तो यह 23 कैरक्टर्स यूज कर लेता है. इससे यूजर्स के लिए लिखने की लिमिट और कम हो जाती है.

2006 में जब ट्विटर शुरू हुआ था तो कंपनी की नीति थी कि लिमिट उतनी ही रखी जाए जितना लंबा टेक्स्ट मेसेज लोग भेजते हैं. लेकिन तब तक स्मार्टफोन्स भी उपलब्ध नहीं थे. हालांकि तब से ट्विटर और दुनिया दोनों काफी बदल चुके हैं लेकिन 140 कैरक्टर्स की लिमिट अभी भी लागू है. डोर्सी इसे एक ऐसी खूबसूरत पाबंदी कहते हैं जो रचनात्मक होने के लिए प्रेरित करती है.

लेकिन यह सच है कि पिछले कुछ समय से ट्विटर को नए यूजर्स खोजने में बहुत मुश्किल हो रही है. इसके शेयरों की कीमत भी पिछले एक साल में 70 फीसदी से ज्यादा गिर चुकी है. इसलिए नए यूजर्स को आकर्षित करने के नए तरीके तो खोजे ही जा रहे हैं. पिछले साल जून में ट्विटर ने ऐलान किया कि यूजर्स के बीच डायरेक्ट मेसेज की लिमिट 10 हजार कैरक्टर्स की जा रही है.

चीन की सबसे बड़ी माइक्रोब्लॉगिंग साइट वाइबो ने पिछले साल 140 कैरक्टर्स की लिमिट हटा दी ताकि लोग लंबी पोस्ट लिख सकें.

DW.COM

संबंधित सामग्री