1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इंस्टाग्राम पर पिक्स डालकर फंसी ईरानी मॉडल्स

इंस्टाग्राम पर पिक्स अपलोड करने वाली मॉडल्स पर ईरान में कड़ी कार्रवाई हुई है. कुछ पर तो वेश्यावृत्ति तक के आरोप लगा दिए गए हैं.

ईरानी सरकार ने इंटरनेट पर "गैर-इस्लामिक" तस्वीरें पोस्ट करने वाली मॉडल्स के खिलाफ सख्त कार्रवाई की है. इस मामले में 8 लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है. ये गिरफ्तारियों दो साल पुराने एक स्टिंग ऑपरेशन के आधार पर की गई हैं. "स्पाइडर 2" नाम के इस स्टिंग ऑपरेशन में कई मॉडल्स को ऑनलाइन मॉडलिंग नेटवर्क से जुड़ा पाया गया. ये मॉडल्स इंटरनेट पर अपनी ऐसी तस्वीरें पोस्ट कर रही थीं जिनमें सिर ढका हुआ नहीं था. 1979 में देश में हुई इस्लामिक क्रांति के बाद सार्वजनिक जगहों पर महिलाओं के बिना सिर ढके निकलने पर पाबंदी है.

"अनैतिक और गैर-इस्लामिक संस्कृति"

जांच अधिकारियों ने ऐसे 170 लोगों की पहचान की है जो इंस्टाग्राम पर पेज चला रहे हैं. इनमें 59 फोटोग्राफर और मेकअप आर्टिस्ट हैं. 58 मॉडल्स हैं और 51 फैशन सलून मैनेजर्स. स्पेशल कोर्ट की ओर से जारी बयान में यह जानकारी दी गई है. जावेद बाबाई ने रविवार को राष्ट्रीय टेलिविजन चैनल पर कहा, "हमने पाया कि ईरान की कुल इंस्टाग्राम फीड का लगभग 20 फीसदी हिस्सा तो मॉडलिंग सर्कल का है. वे लोग अनैतिक और गैर-इस्लामिक संस्कृति बना और फैला रहे हैं."

बाबेई ने कहा कि संगठित तौर पर ऐसे अपराध करने वालों को पकड़ना न्यायालय की जिम्मेदारी है. आठ गिरफ्तारियों के अलावा 21 लोगों के खिलाफ जांच भी शुरू की गई है.

बाबाई ने बताया कि इंस्टाग्राम के 300 लोकप्रिय ईरानी अकाउंट्स पर स्टिंग ऑपरेशन किया गया. बाबाई के टीवी पर इस ऐलान के बाद कोर्ट की कार्रवाई को लाइव दिखाया गया. इस कार्रवाई में एक पूर्व मॉडल ने कहा कि वह इंस्टाग्राम के जरिए पैसा कमा रही थीं. एलहाम अरब नाम की इस मॉडल ने तेहरान में इस कोर्ट को बताया कि एक सफल मॉडल की औसत आय 10 करोड़ रियाल यानि करीब सवा दो लाख रुपये महीना है.

प्रॉस्टिट्यूशन और भ्रष्टाचार के आरोप

ईरान में इंस्टाग्राम बेहद लोकप्रिय है. वैसे भी मुल्क में फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर बैन लगा हुआ है तो इंस्टाग्राम लोगों के लिए सोशल मीडिया की सारी जरूरतें पूरी करता है.

माना जा रहा है कि गिरफ्तारी की यह कार्रवाई मार्च में ही हो गई थी. तब जुडिशरी के प्रवक्ता गुलाम हुसैन मोहसेनी-एजेई ने 8 लोगों की गिरफ्तारी का ऐलान किया था. उनमें से कुछ को जमानत दे दी गई थी और कुछ को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया था. उन्होंने कहा, “कुछ पर तो प्रॉस्टिट्यूशन और भ्रष्टाचार फैलाने जैसे गंभीर आरोप थे." मोहसेनी-एजेई ने बताया कि कुछ लोग अनजाने में इन वेबसाइट्स पर चले गए थे, उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया.

वीके/आईबी (एएफपी)

DW.COM