ट्रैफिक जाम में फंसे इंडोनेशिया के राष्ट्रपति | ताना बाना | DW | 05.10.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

ट्रैफिक जाम में फंसे इंडोनेशिया के राष्ट्रपति

आप भी कभी ना कभी इस तरह के जाम में जरूर फंसे होंगे जब लगा होगा कि गाड़ी यहीं छोड़ो और पैदल ही चल लो, शायद जल्दी पहुंच जाएंगे. लेकिन किसी देश के राष्ट्रपति के साथ ऐसा हुआ हो, ऐसा कभी सुना है?

के लिए ट्रैफिक जाम कोई नई बात नहीं है. राजधानी जकार्ता में लोग हर रोज घर से दफ्तर और दफ्तर से घर के रास्ते में घंटों जाम में फंसे रहते हैं. लेकिन हद तो तब हो गयी जब सेना की परेड में हिस्सा लेने जा रहे राष्ट्रपति जोको विडोडो को अपनी गाड़ी छोड़ दो किलोमीटर पैदल चलना पड़ा. अपने 'कूल' स्वभाव के लिए जाने जाने वाले जोको विडोडो को लोग प्यार से जोकोवी कहते हैं.

देश की सेना की स्थापना की 72वीं जयंती के मौके पर जोकोवी को जकार्ता से ढाई घंटे की दूरी पर स्थित बंदरगाह शहर सिलेगोन पहुंचना था. आधा घंटा इंतजार करने के बाद भी जब काफिला आगे नहीं बढ़ पाया, तो उन्होंने पैदल ही चलने का फैसला किया. ट्विटर पर शेयर किए जा रहे इन वीडियो में देखिए कि कैसे जोकोवी का काफिला जाम में फंसता है और फिर कैसे वे अपनी पत्नी और अन्य सरकारी अधिकारियों के साथ सड़क पर भीड़ के बीच से होते हुए आगे बढ़ रहे हैं. पुलिस के अध्यक्ष टीटो कारनावियन भी उनके साथ ही चल रहे हैं.

इस दौरान गर्मी इतनी है कि प्रथम महिला का मेकअप भी खराब हो रहा है. सोशल मीडिया पर लोग सवाल कर रहे हैं कि राष्ट्रपति की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उनके लिए हेलीकॉप्टर क्यों नहीं भेजा गया और सड़क क्यों खाली नहीं कराई गयी.

बॉयफ्रेंड के पास खड़े होने की सजा

इंडोनेशिया में एक महिला को इसलिए कोड़े लगाए गए क्योंकि वह सार्वजनिक स्थान पर अपने बॉयफ्रेंड के नजदीक खड़ी थी. ऐसा पहली बार नहीं हुआ. यहां कई प्रांतों में शरिया कानून लागू है. और क्या करता है यह कानून...

DW.COM