1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत ने नवाज शरीफ पर किया पलटवार

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि बुरहान वानी को महिमामंडित किए जाने से साफ है कि पाकिस्तान आतंकवाद का लगातार समर्थन कर रहा है.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की तरफ से संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दा उठाने पर भारत ने पलटवार किया है. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि बुरहान वानी को महिमामंडित किए जाने से साफ है कि पाकिस्तान आतंकवाद का लगातार समर्थन कर रहा है.

बुधवार को संयुक्त राष्ट्र की आमसभा में शरीफ ने भारत पर आरोप लगाया कि वह बातचीत के लिए ऐसी शर्त रख रहा है जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दे को हल किए बिना दक्षिण एशिया में शांति कायम नहीं हो सकती है जबकि भारत बातचीत से पहले आतंकवाद के खात्मे की बात कहता है.

नवाज शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान भारत की तरफ से हो रही 'सैन्य तैयारियों को' अनदेखा नहीं कर सकता है और अपनी सुरक्षा के लिए जो भी कदम होगा वो उठाएगा. कश्मीर घाटी जुलाई में चरमपंथी कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद से ही उबल रही है, लेकिन रविवार को उड़ी में भारतीय सेना के बेस पर हमले में 18 सैनिकों की मौत के बाद दोनों देशों में तनाव एक नए स्तर तक पहुंच गया है.

तस्वीरों में: सुंदरता और संघर्ष का नाम कश्मीर

नवाज शरीफ ने यूएन में दिए अपने भाषण में बुरहान वानी को ‘कश्मीर के शांतिपूर्ण और लोकप्रिय स्वतंत्रता आंदोलना का प्रतीक' बताया. उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय दक्षिण एशिया में बढ़ रहे खतरे को अनदेखा कर रहा है जिसके जोखिम उसे उठाने होंगे. नवाज शरीफ ने कश्मीर में भारतीय सेना पर जुल्म ढाने का आरोप लगाते हुए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से उनकी जांच करने को कहा. उन्होंने फिर भारत से बातचीत की पैरवी की, लेकिन इसके कोई भी पूर्व शर्त मानने से इनकार कर दिया.

वहीं भारत में नवाज शरीफ के बयान की कड़ी प्रतिक्रिया हो रही है. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट किया, “पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र के सबसे बड़े मंच पर हिज्बुल आतंकवादी बुरहान वानी को महिमामंडित किया है. इससे पता चलता है कि पाकिस्तान लगातार आंतकवाद से जुड़ा हुआ है.” वहीं संयुक्त राष्ट्र में भारतीय मिशन ने भी ने नवाज शरीफ को करारा जबाव दिया है. भारत की एक वरिष्ठ राजनयिक ऐनाम गंभीर ने कहा, “ये विडंबना है.. आज हमने देखा है कि जो देश अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का मूलकेंद्र है वो हमें मानवाधिकारों पर भाषण दे रहा है और स्व-निर्धारण की बात कर रहा है.”

देखिए, कहां कहां हो रहे हैं पानी पर झगड़े

गंभीर ने ये भी आरोप लगाया कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मदद में मिलने वाले करोड़ों डॉलर की रकम को आंतकवादी गुटों की ट्रेनिंग और मदद करने पर खर्च करता है.

भारत लंबे समय से पाकिस्तान पर कश्मीर में चरमपंथ को हवा देने का आरोप लगाता रहा है, जबकि पाकिस्तान इन आरोपों से इनकार करता है.

रिपोर्टः एके/वीके (रॉयटर्स, पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री