1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कम हो रहे हैं जर्मनी में बच्चों वाले परिवार

जर्मनी में परिवारों की संख्या बढ़ रही है हालांकि आबादी लगातार घट रही है. अनुमान है कि अगले बीस साल में बिना बच्चे वाले परिवारों की तादाद बढ़ेगी.

जर्मनी का सांख्यिकी कार्यालय सरकारी नीतियां तय करने में मदद के लिए नियमित रूप से आबादी संबंधी आकलन करता है. ताजा रिपोर्ट के अनुसार सांख्यिकी कार्यालय का कहना है कि अगले 20 साल में जर्मनी में 4.32 करोड़ परिवार होंगे. देश में आंकड़ों पर नजर रखने वाली सरकारी संस्था के अनुसार 2015 में जर्मनी में परिवारों की तादाद 4.08 करोड़ थी.

जर्मन सांख्यिकी कार्यालय डेस्टाटिस की ओलगा पोएच के अनुसार निजी गृहस्थियों के विकास को दो चीजें निर्णायक रूप से प्रभावित करेंगी, "एक ओर आबादी की उम्र संरचना में बदलाव और आबादी का आकार तो दूसरी ओर छोटे परिवारों का चलन." पिछले सालों में बड़ी संख्या में आए शरणार्थियों की वजह से इस आकलन के नतीजों पर असर दिख सकता है.

ये आंकड़े नागरिक सुविधाओं के विकास और रखरखाव के लिए जरूरी हैं. गृहस्थियों को बढ़ने का मतलब होगा कि एक या दो लोगों के लिए उपयुक्त मकानों की मांग बढ़ेगी जबकि बड़े घरों की मांग कम होगी जिनमें बच्चों वाले बड़े परिवार रहते हैं. इसी तरह बच्चों के कम होने से किंडरगार्डनों और स्कूलों की जरूरत भी कम होगी, जिसका असर शिक्षकों की भर्ती पर भी होगा. 

आने वाले सालों में आबादी के संभावित विकास को देखते हुए 2035 तक जर्मनी में गृहस्थियों की संख्या बढ़कर 4.15 करोड़ हो जाएगी. यह 2015 के मुकाबले 760,000 ज्यादा है. सांख्यिकी कार्यालय की रिपोर्ट के अनुसार इसके अलावा एक या दो लोगों वाली गृहस्थियों के चलन को देखते हुए करीब 16 लाख ऐसी गृहस्थियां होंगी जिनमें सिर्फ एक या दो लोग होंगे.

एक या दो लोगों के परिवार में रहने वाले लोगों की संख्या 2015 के 4.5 करोड़ से बढ़कर 2035 में 5 करोड़ हो जाएगी. इसका नतीजा बच्चों वाले परिवारों में कमी भी होगा. बच्चों वाले परिवारों की संख्या अगले बीस साल में 99 लाख से घटकर 88 लाख रह जाएगी. 2015 के अंत में जर्मनी की आबादी 8 करोड़ 22 लाख थी.

एमजे/एके (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री