1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फेसबुक पर फोटो डाले, तो मां बाप पर केस किया

ऑस्ट्रिया में 18 साल की एक लड़की ने अपने माता पिता पर केस कर दिया है. लड़की इस बात से नाराज है कि माता पिता ने उसके बचपन की सैकड़ों तस्वीरें फेसबुक पर पोस्ट कर दीं.

ये लड़की ऑस्ट्रिया के दक्षिणी कारिंथीया इलाके में रहती है. ऑस्ट्रियाई मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक लड़की का कहना है कि उसकी अनुमति के बिना माता पिता ने उसके बचपन की लगभग पांच सौ फोटो फेसबुक पर डाल दी.

"द लोकल ऑस्ट्रिया" अखबार ने लड़की का बयान छापा है, जिसके मुताबिक, "उन्हें पता नहीं है कि शर्म क्या होती है, सीमा क्या होती है. उन्होंने जरा भी परवाह नहीं कि किसी तस्वीर में मैं टॉइलेट में बैठी हूं तो किसी में चारपाई पर नंगी लेटी हूं. बचपन के हर दौर की फोटो थी जिनको उन्होंने सार्वजनिक कर दिया है."

लड़की का कहना है कि उसने माता पिता ने 2009 में अपने 700 फेसबुक फ्रेंड्स के साथ तस्वीरें शेयर करनी शुरू कीं, उस वक्त उसकी उम्र 11 साल थी. आरोप है कि माता पिता ने तस्वीरें हटा लेने की बार-बार उसके आग्रह को अनदेखा किया और हार कर लड़की ने अदालत का दरवाजा खटखटाया. उसने कहा, "मेरे माता पिता मुझे गंभीरता से नहीं ले रहे थे और मैं इस बात से तंग आ गई थी."

यह भी देखिए: लटके बच्चों के फोटो ने हिला दी सरकार

वहीं लड़की के पिता का कहना है कि उन्हें लगता है कि उन्हें ये तस्वीरें फेसबुक पर लगाने का अधिकार है, क्योंकि ये तस्वीरें उन्होंने खुद खींची हैं. "डी गांज वोखे" पत्रिका से बातचीत में उन्होंने कहा, "आखिरकार तो वो हमारी बच्ची है और मेरी पत्नी और मेरे लिए ये एक अच्छी एलबम है जो हमारे फेसबुक दोस्तों को भी खूब पसंद आई है."

लड़की की वकील मिशेल रामी ने ऑस्ट्रियाई मीडिया को बताया कि अगर ये साबित हो जाए कि तस्वीरें फेसबुक पर लगाने से उनकी मुवक्किल के निजता के अधिकार का उल्लंघन हुआ है, तो उनके केस जीत जाने की उम्मीद है. अगर माता पिता केस हार गए तो उन्हें अपनी बेटी को हर्जाना देना होगा और केस लड़ने पर आए खर्चे की भी भरपाई करनी होगी.

जानिए, व्हट्सऐप के 11 राज

इस तरह फोटो सोशल मीडिया पर फोटो शेयर करने से आने वाली पीढी पर पड़ने वाले असर को लेकर हाल के सालों में बहस शुरू हुई है. इस मामले में नवंबर में मुकदमा शुरू होगा और इस पर बहुत से लोगों की नजरें रहेंगी. ऑस्ट्रिया में ये अपनी तरह का पहला मामला है, लेकिन इसका असर अन्य यूरोपीय देशों पर भी पड़ सकता है. फ्रांस में अधिकारियों ने माता पिता से कहा है कि वो अपने बच्चों की फोटो हटा लें और अगर किसी ने परिवार के किसी सदस्य की फोटो उसकी मर्जी के बिना पोस्ट की तो उसे एक साल की जेल और भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है.

देखिए, एक सेल्फी ने कैसे बदली जिंदगी

इस बारे में जर्मनी में नियम इतने सख्त नहीं हैं, ऐसे में यहां भी बच्चे माता पिता के खिलाफ इस तरह के मामलों में कार्रवाई कर सकते हैं. पिछले साल जर्मन शहर हेगेन में पुलिस ने एक अपील जारी की कि लोग अपने बच्चों की निजता का ख्याल रखें. इसके मुताबिक बच्चों की कुछ निश्चित तस्वीरें शेयर करने से वे यौन अपराधियों के निशाने पर आ सकते हैं या फिर आगे चल कर जिंदगी में उनके लिए कुछ और समस्या पैदा हो सकती है.

नताली म्युलर/एके

DW.COM

संबंधित सामग्री