1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सेक्स वर्कर के पास जाने के लिए सब्सिडी के सुझाव पर बवाल

जर्मनी की एक सांसद ने सलाह दी है कि जिन मरीजों को सेक्स की जरूरत है उन्हें सेक्स वर्कर के पास जाने के लिए सब्सिडी मिलनी चाहिए. इस सुझाव को लेकर कई तीखी प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं.

विपक्षी ग्रीन पार्टी की सांसद एलिजाबेथ शारफेनबेर्ग स्वास्थ्य नीतियों पर पार्टी की प्रवक्ता हैं. उन्होंने वेल्ट अम जोनटाग अखबार से कहा कि इस बारे में सोचा जा सकता है कि अधिकारी सेक्स करने के लिए वित्तीय मदद दें. अखबार के मुताबिक यह विचार नीदरलैंड्स में जारी एक व्यवस्था से आया है. नीदरलैंड्स में अगर लोग यह साबित कर दें कि सेक्स उनकी सेहत के लिए जरूरत है और वे आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण सेक्स वर्कर अफोर्ड नहीं कर सकते तो उन्हें वित्तीय मदद मिलती है.

यह भई देखें, दुनिया के सबसे बड़े सेक्स बाजार

शारफेनबर्ग को इस बयान के लिए विपक्षी दलों से ही नहीं, बल्कि अपनी पार्टी में भी आलोचना झेलनी पड़ रही है. सत्ताधारी सोशल डेमोक्रैटिक पार्टी के सांसद कार्ल लाउटरबाख ने बिल्ड अखबार से कहा, "हमें बजुर्गों के घरों तक प्रॉस्टिट्यूशन को नहीं लाना है. और डॉक्टर से लिखवाकर तो बिल्कुल नहीं लाना है."

जर्मनी में मरीजों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए काम करने वाली संस्था जर्मन पेशंट प्रोटेक्शन फाउंडेशन ने भी इस विचार का विरोध किया है. फाउंडेशन ने कहा है कि जिन लोगों को कपड़े धोने और खाने के लिए समस्याओं को सामना करना पड़ता हो, उनकी चिंताएं अलग हैं.

वीके/एके (एपी)

तस्वीरों में, सेक्स टॉयज का इतिहास

DW.COM

संबंधित सामग्री