1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

किम की हत्या के सिलसिले में गिरफ्तार व्यक्ति रिहा

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के सौतेले भाई की हत्या के मामले में गिरफ्तार एक उत्तर कोरियाई व्यक्ति को मलेशिया की पुलिस ने रिहा कर दिया है.

मलेशियाई पुलिस का कहना है कि उसे विश्वास है कि री जोंग चोल हत्या की साजिश में शामिल था लेकिन इस बात को साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं. क्वालालंपुर के एयरपोर्ट पर किम जोंग नाम की एक जहरीले पदार्थ से हत्या की गई थी. मलेशियाई पुलिस को इस मामले में आठ लोगों पर संदेह है जिनमें से री भी एक है.

मलेशिया के अटॉर्नी जनरल ने कहा है कि ऐसे पर्याप्त सबूत नहीं हैं जिनके आधार पर 47 वर्षीय री के खिलाफ आरोप तय किए जा सकें और इसीलिए उसे शुक्रवार को उत्तर कोरिया प्रत्यर्पित किया जाएगा.

मलेशियाई पुलिस प्रमुख खालिद अबु बकर ने री को रिहा किए जाने पर अफसोस जताते हुए कहा कि उसे कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस हिरासत से निकाल कर आप्रवासन अधिकारियों को सौंप दिया गया है. उन्होंने कहा, "हम मानते हैं कि किम चोल की हत्या में री जोंग चोल की भूमिका थी, लेकिन दुर्भाग्य से हमारे पास ऐसे सबूत नहीं हैं जिनके आधार पर हम आरोप तय कर सकें." किम जोंग नाम जिस पासपोर्ट के साथ सफर कर रहे थे उसमें उनका नाम किम चोल दर्ज था.

तीर्थ यात्रा पर सऊदी अरब गए खालिद अबु बकर ने टेक्स्ट मैसेज भेज कर कहा, "हम सबूत न होने की वजह से बहुत हताश हैं." हालांकि उन्होंने री की रिहाई के मामले में किसी भी तरह के राजनीति या राजयनिक दबाव से इनकार किया. उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह जांच से जुड़ा मुद्दा है.

इससे पहले दो महिलाओं को किम की हत्या के मामले में अभियुक्त बनाया गया है. ये महिलाएं वियतनाम और इंडोनेशिया की हैं. इस मामले में पुलिस को सात और उत्तर कोरियाई लोगों की तलाश है. इनमें से एक राजनयिक और एक एयरलाइन कर्मचारी है. बताया जाता है कि किम की हत्या वाले दिन ही चार अन्य लोग प्योंगयांग भाग गए थे.

सीटीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है कि दो महिलाएं 45 साल के किम की तरफ बढ़ती हैं और उनके मुंह से उन्होंने एक कपड़ा रगड़ दिया. पुलिस के मुताबिक इसके 20 मिनट में ही किम की मौत हो गई थी. दक्षिण कोरिया इस हत्या के लिए उत्तर कोरिया को जिम्मेदार बताया है. उनके मुताबिक किम जोंग उन ने अपने सौतेले भाई को मरवाने के आदेश दिया हुआ था क्योंकि वह किम जोंग नाम को अपना संभावित प्रतिद्वंद्वी मानते थे.

उधर उत्तर कोरिया ने मारे गए व्यक्ति की पहचान के बारे में कुछ कहे बिना इस मामले में जांच का विरोध किया है. उसका कहना है कि मलेशिया उत्तर कोरिया के दुश्मनों के साथ मिल गया है. हालांकि एक उत्तर कोरिया राजनयिक का कहना है कि किम की मौत किसी जहरीले पदार्थ से नहीं बल्कि दिल का दौर पड़ने से हुई है. मलेशिया की पुलिस इस पर सवाल उठाती है.

इस बीच, मलेशिया ने उत्तर कोरिया के लोगों को वीजा फ्री यात्रा की सुविधा देने वाले समझौते को रद्द कर दिया है और प्योंगयांग से अपने राजदूत वापस बुला लिया है.

एके/ओएसजे (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री