1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फ्रांस में बड़ी जीत की तरफ माक्रों की पार्टी

फ्रांस के आम चुनावों में राष्ट्रपति माक्रों की पार्टी बड़ी जीत की तरफ बढ़ रही है. नतीजे बताते हैं कि चुनाव के पहले दौर में उनकी पार्टी रुढ़िवादियों और धुर दक्षिणपंथियों से बहुत आगे है. वैसे चुनाव में मतदान बेहद कम हुआ.

फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमानुएल माक्रों की पार्टी ला रिपब्लिक एन मार्श (एलआरईएम) ने रविवार को पहले चरण के चुनाव में लगभग 30 प्रतिशत वोट हासिल किये हैं. दूसरे दौर का चुनाव अगले रविवार को होगा. अगर पहले दौर का रुझान ही जारी रहता है तो दूसरे चरण के बाद फ्रांस की नेशनल असेंबली की 577 सीटों में से एलआरईएम को 415 से 455 के बीच सीटें मिल सकती हैं. सरकारी प्रवक्ता क्रिस्टोफ कास्टनर ने कहा, "फ्रांस के लोगों ने दिखा दिया है कि वे चाहते हैं कि हम जल्दी से आगे बढ़ें."

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने राष्ट्रपति माक्रों को बधाई है. उनके प्रवक्ता श्टेफेन जाइबर्ट के अनुसार मैर्केल ने कहा, "पहले दौर में इमानुएल माक्रों की पार्टी को जबरदस्त सफलता पर मेरी तरफ से उन्हें हार्दिक बधाई. सुधार के लिए मजबूत वोटिंग."

राष्ट्रपति पद की पूर्व उम्मीदवार मारी ले पेन की धुर दक्षिणपंथी पार्टी नेशनल फ्रंट के 14 प्रतिशत वोट हासिल करने का अनुमान जताया जा रहा है. इस तरह 2012 में हुए चुनाव से मुकाबला करें तो पार्टी के प्रदर्शन में कोई अंतर नहीं आया है, लेकिन पिछले महीने हुए राष्ट्रपति चुनाव में पार्टी को मिले समर्थन से यह आठ प्रतिशत कम है.

कंजर्वेटिव रिपब्लिकन पार्टी और उनके सहयोगियों को 21 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं जबकि ज्यौं-लुक मेलेंशॉ की धुर वामपंथी पार्टी को 11 प्रतिशत वोट मिलने का अनुमान है. निवर्तमान संसद में दबदबा रखने वाली सोशलिस्ट पार्टी को सिर्फ सात प्रतिशत वोटों से ही संतोष करना पड़ सकता है.

उधर फ्रांस के गृह मंत्रालय ने कहा है कि रविवार को हुए चुनाव में शाम तक मतदान प्रतिशत 41 प्रतिशत के आसपास था. इससे पहले 2012 के चुनाव में 48 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. इस बार पहले दौर में 51.4 प्रतिशत लोग मतदान से अलग रहे. माक्रों को श्रम और आर्थिक सुधारों पर अपने कुछ प्रस्तावित विवादित कानूनों को आगे बढ़ाने के लिए संसद के निचले सदन में बहुमत की जरूरत होगी.

एके/आरपी (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री