1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ब्रिटिश संसद में एक बिल्ले पर चिंता, विदेश मंत्री ने समझाया

ब्रिटिश विदेश मंत्रालय का कर्मचारी एक बिल्ला सांसदों की चिंता का सबब बना हुआ है. विदेश मंत्री को खुद तसल्ली दिलानी पड़ी कि घबराएं नहीं, सब ठीक है.

Kuba Havana Besuch britscher Außenminister Philip Hammond mit Bruno Rodriguez

फिलिप हैमंड

ब्रिटेन के कुछ सांसद एक बिल्ले से इतना घबराए हुए हैं कि विदेश मंत्री को संसद में बयान देकर तसल्ली करानी पड़ी कि सब ठीक है. पैमरस्टन यह बिल्ला ब्रिटिश सरकार का कर्मचारी है और संसद में ही तैनात है. सांसदों को डर था कि यह बिल्ला कहीं यूरोपीय संघ का जासूस तो नहीं है.

मंगलवार को ब्रिटिश सांसद कीथ सिंपसन ने यह मुद्दा उठाया. उन्होंने सवाल किया कि क्या इस बिल्ले की जांच की गई है. विदेश मंत्री को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “मैं एक गंभीर बात उठाना चाहता हूं. क्या मैं अपने माननीय मित्र से पूछ सकता हूं कि पैमरस्टन की सुरक्षा जांच हुई है या नहीं? आपको याद होगा कि चांसलर की बिल्ली फ्रेया को विदेश मंत्रालय और प्रधानमंत्री के घर तक में आने-जाने दिया जाता था और तब भी यह सवाल उठा कि कहीं फ्रेया को किसी विदेशी ताकत ने तो नहीं भेजा है. इसलिए क्या मैं आपसे पूछ सकता हूं कि सुरक्षा एजेंसियों ने पैमरस्टन की जांच कर ली है या नहीं और बग्स के लिए भी उसका स्कैन हुआ है या नहीं. क्या मेरे माननीय मित्र सदन को इस बात की तसल्ली दिला सकते हैं कि यह बिल्ला यूरोपीय संघ के लिए काम करने वाला कोई जासूस नहीं है.”

सिंपसन जब यह सवाल पूछ रहे थे तो बीच-बीच में ठहाकों की आवाज आती रही. इन्हीं ठहाकों के बीच ब्रिटिश विदेश मंत्री फिलिप हैमंड खड़े हुए और उन्होंने कहा कि पैमरस्टन कोई जासूस नहीं है. हैमंड ने कहा कि पैमरस्टन की सुरक्षा एजेंसियों ने जांच की है. यूरोपीय संघ पर तीखा कटाक्ष करते हुए हैमंड ने कहा, “पैमरस्टन की हाजिरी 100 फीसदी है. यही सबूत काफी है कि वह यूरोपीय आयोग का कर्मचारी नहीं हो सकता.”

पैमरस्टन ने पिछले महीने ही विदेश मंत्रालय के लिए काम करना शुरू किया है. उसे बेटरसी डॉग्स ऐंड कैट्स होम से लाया गया है. उसका काम है संसद में चूहे पकड़ना. अब तक उसने तीन चूहे पकड़े हैं. बताया जाता है कि उसका नाम लंबे समय तक विदेश मंत्री रहे और 71 की आयु में प्रधानमंत्री बने लॉर्ड पैमरस्टन के नाम पर रखा गया है.

पैमरस्टन को लेकर उठा यह विवाद दरअसल ब्रिटेन के यूरोपीय संघ में बने रहने से जुड़ा है. ब्रिटेन का एक तबका चाहता है कि देश यूरोपीय संघ से अलग हो जाए. इसे लेकर 23 जून को जनमत संग्रह होना है. इसलिए दोनों तरफ के लोग प्रचार-प्रसार में लगे हुए हैं. सिंपसन ने कहा कि जो लोग यूरोपीय संघ से अलग होना चाहते हैं उन्हें संदेह है कि पैमरस्टन को यूरोपीय संघ ने सूचनाएं जुटाने के लिए भेजा है.

विदेश मंत्री हैमंड ने कहा, “वह निश्चित तौर पर कोई जासूस नहीं है. मेरे मित्र निश्चिंत रहें, बिल्ले की पूरी जांच हुई है.”

हैमंड ने चुटकी लेते हुए कहा कि जहां तक उसके सोने की बात है तो मेरे दफ्तर के लोग बताते हैं कि पैमरस्टन सोता बहुत है.

पैमरस्टन का ट्विटर पेज है जिस पर उसके नौ हजार से ज्यादा फॉलोअर्स हैं. विदेश मंत्री हैमंड के फॉलोअर्स 36 हजार से कुछ ज्यादा हैं और जिस तेजी से पैमरस्टन के फॉलोअर्स बढ़ रहे हैं, कहा जा रहा है कि गर्मियां खत्म होते-होते वह हैमंड को पीछे छोड़ देगा.

DW.COM