1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

क्या मनसे की धमकी से भारत छोड़ गए फवाद खान?

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना की पाकिस्तानी कलाकारों को धमकी के बाद फवाद खान का भारत में ना होना चर्चा में है. मनसे ने भारत में काम कर रहे पाकिस्तानी कलाकारों को धमकी दी थी.

बॉलीवुड में काम कर रहे पाकिस्तानी ऐक्टर भारत में नहीं है और बहुत संभव है कि अब लंबे समय तक आएंगे भी नहीं. हाल ही में राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने भारत में काम कर पाकिस्तानी कलाकारों को देश छोड़ देने की धमकी दी थी. उसके बाद ऐसी खबरें आ रही हैं कि फवाद खान भारत में नहीं हैं और वह अपनी आने वाली फिल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' के प्रचार के लिए भारत नहीं आएंगे.

वैसे फवाद खान की पत्नी सदाफ प्रेग्नेंट हैं और अपने दूसरे बच्चे को जन्म देने की तैयारियों में लगी हैं. तो कुछ मीडिया रिपोर्ट्स ऐसी भी हैं कि फवाद अपनी पत्नी के साथ समय बिता रहे हैं, इसलिए वह भारत में नहीं हैं और उनकी गैरहाजरी का मनसे की धमकी से कोई लेना देना नहीं है. लेकिन भारत में जिस तरह का माहौल है उसे देखते हुए कयास लगाए जा रहे हैं कि फवाद अब लंबे समय तक भारत नहीं लौटेंगे.

तस्वीरों में देखिए, किन 7 के पीछे पड़ी है मनसे

कश्मीर के उड़ी में आतंकवादी हमले में 18 भारतीय जवानों के मारे जाने के बाद महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने धमकी दी थी कि पाकिस्तानी कलाकार 48 घंटे में भारत से चले जाएं. इस धमकी को लेकर सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया हुई थी. उसके बाद फवाद खान की गैरहाजरी की खबरें भी ट्विटर पर लोगों को कुछ न कुछ लिखने का मौका दे रही हैं. फवाद के ना होने को चले जाने की तरह देखा जा रहा है तो लोग इसके पक्ष और विपक्ष में लिख रहे हैं. कांग्रेस संजय झा ने इस पर ताना मारा है. उन्होंने लिखा है कि यह कुछ लोगों की मर्दानगी का प्रतीक है.

पाकिस्तान में ही नहीं, भारत में भी फवाद खान के खूब फैन्स हैं. खासकर महिलाओं में वह विशेष लोकप्रिय हैं. इसका पता कुछ ट्वीट्स से भी चलता है. मसलन शिल्पा रत्न लिखती हैं, "इस तरह की सतही बातें मत करो कि फवाद खान पाकिस्तान है. उन्हें एक बेहद आकर्षक पुरुष की तरह देखो जो नारी जाति को ईश्वर का तोहफा है."

शेफाली वैद्य का एक ट्वीट है, "फवाद खान ने पैसे से ज्यादा अपने मुल्क को अहमियत दी है जबकि कुछ भारतीय पैसे, टीआरपी और वोटबैंक के लिए देश को बेचने को तैयार हैं."

वैसे, फवाद खान खुद भी ट्विटर पर हैं लेकिन यह खबर लिखे जाने तक उन्होंने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है. उन्होंने अपना पिछला ट्वीट 14 सितंबर को किया था.

रिपोर्टः विवेक कुमार

DW.COM

संबंधित सामग्री