बिना शादियों के पैदा हो रहे हैं एक तिहाई जर्मन बच्चे | दुनिया | DW | 19.07.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बिना शादियों के पैदा हो रहे हैं एक तिहाई जर्मन बच्चे

जर्मनी बदल रहा है. अब शादियां लेट हो रही हैं लेकिन लंबी चल रही हैं. लेकिन बच्चे शादियों के बगैर ज्यादा पैदा हो रहे हैं. हाल के सर्वे दिलचस्प तस्वीर पेश करते हैं.

जर्मनी में पैदा होने वाले हर तीसरे बच्चे के माता-पिता शादीशुदा नहीं होते. एक रिपोर्ट के मुताबिक जर्मनी में 35 फीसदी बच्चे ऐसे पैदा हो रहे हैं जिनके माता-पिता ने शादी नहीं की है. कोलोन के इंस्टीट्यूट फॉर इकॉनॉमिक रिसर्च के सर्वे के मुताबिक 2014 में जो बच्चे जर्मनी में पैदा हुए उनमें से दो तिहाई के मां-बाप ही शादीशुदा थे.

इस सर्वे से जर्मनी में परिवारों की संरचना पर कई दिलचस्प जानकारियां मिली हैं. मसलन, पश्चिमी जर्मनी और पूर्वी जर्मनी के हिस्सों में बहुत ज्यादा अंतर देखा जा सकता है. राष्ट्रीय रेडियो चैनल डॉयचलांडफुंक की रिपोर्ट बताती है कि दोनों हिस्सों में रहने वाले लोगों के रुझान काफी अलग हैं. पश्चिमी हिस्सा ज्यादा धनी और धार्मिक है. वहां सिर्फ 29 प्रतिशत बच्चे ऐसे पैदा हुए जिनके माता-पिता ने शादी नहीं की थी. इसके उलट पूर्वी जर्मनी में 60 फीसदी बच्चे बिना शादियों के ही पैदा हुए. पूर्वी जर्मनी में साम्यवादी शासन था. वहां ईसाई धर्म में आस्ता न रखने वाले लोगों की बहुतायत है.

आपको भी लग सकती हैं ये जर्मन आदतें

देश की राजधानी बर्लिन जर्मनी के पूरब और पश्चिम में बंटी हुई थी. बर्लिन में पैदा हुए आधे से ज्यादा बच्चों के मां-बाप ने शादी नहीं की थी. राजधानी से सटे ब्रांडेनबुर्ग प्रांत में तो यह तादाद 70 फीसदी तक है. दक्षिणी राज्यों बाडेन-वुर्टेमबर्ग और बवेरिया में शादीशुदा मां-बाप ज्यादा हैं. इन राज्यों में कैथलिक ईसाइयों का प्रभाव ज्यादा है. यहां पैदा हुए बच्चों के मां-बाप ज्यादातर शादीशुदा थे.

एक अन्य रिपोर्ट में सामने आया है कि जर्मनी के लोग अब देर से शादी कर रहे हैं. हालांकि साथ ही यह भी पता चला कि अब शादियां ज्यादा लंबे समय तक टिक रही हैं. जर्मन सांख्यिकी एजेंसी डेस्टैटिस की रिपोर्ट कहती है कि जर्मन ज्यादा देर से शादी कर रहे हैं लेकिन ज्यादा देर तक निभा भी रहे हैं.

जर्मन शादी की मजेदार रस्में

2015 में तलाक से पहले शादी की औसत आयु 15 साल थी. 1990 के दशक में यह आयु 11.5 साल हुआ करती थी. यानी पहले जो शादी औसतन 11.5 साल तक चलती थी अब 15 साल तक चल रही है. तलाक की संख्या में भी कमी देखी गी है. 2014 से 2015 के बीच तलाक में 1.7 फीसदी की कमी देखी गई. हालांकि ज्यादातर तलाक उन परिवारों में हुए जिनमें बच्चे थे.

इस रिपोर्ट के मुताबिक 1990 के बाद से 40 फीसदी शादियों का अंत तलाक के रूप में हुआ.

DW.COM

संबंधित सामग्री