1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इंडोनेशिया में भी उठी नए नोट लागू करने की मांग

भारत में नोटबंदी को लेकर मचे हंगामे के बीच इंडोनेशिया में देश की मुद्रा रुपिया के नोट से तीन शून्य हटाने की बात हो रही है. मतलब 1000 रुपिया के सबसे छोटे नोट को एक रुपिया में तब्दील करने की कोशिश.

इंडोनेशिया के केंद्रीय बैंक ने देश के मुद्रा तंत्र को आसान बनाने के लिए सरकार से नए नोट लाने को कहा है. बैंक इंडोनेशिया (बीआई) के गवर्नर आगुस मारतोवारदोजो ने राष्ट्रपति जोको विडोडो से ठंडे बस्ते में डाल दिए नए नोट लाने के प्रस्ताव पर फिर से विचार करने को कहा है. फिलहाल इंडोनेशिया की मुद्रा रुपिया का मूल्य बहुत कम है. एक अमेरिकी डॉलर की कीमत साढ़े 13 हजार इंडोनेशिया रुपिया होती है. फिलहाल रुपिया का सबसे बड़ा नोट एक लाख का है जबकि सबसे छोटा एक हजार रुपिया का.

पिछली सरकार के शासन में 2013 में नए नोट लाने का प्रस्ताव आया था. लेकिन उस वक्त इंडोनेशिया के वित्तीय बाजारों में अस्थिरता को देखते हुए इस प्रस्ताव को एक तरफ रख दिया गया. अगर संसद समीक्षा बिल को अगले साल पारित कर देती है तो फिर केंद्रीय बैंक को नए नोट छापने में दो साल का समय लगेगा. गवर्नर ने कहा कि नए नोट छापने के बाद पुराने नोटों की जगह पूरी तरह से लागू करने में सात साल और लगेंगे.

देखिए ये हैं सबसे महंगे नोट

मारतोवारदोजो ने कहा, "सामान और सेवाओं के दाम आसान बनाने होंगे. मुद्रा को बदलने के चरण में लोग नए और पुराने दोनों तरह के नोट इस्तेमाल कर सकते हैं. हमें विश्वास है कि इससे मुद्रास्फीति पर असर नहीं होगा.”

इंडोनेशिया की वित्त मंत्री स्री मुल्यानी इंद्रवती का कहना है कि रुपिया के नोट पर बहुत से शून्य मुद्रा के मुद्रास्फीति इतिहास को दिखाते हैं और उससे जुड़े प्रस्ताव पर 2017 में संसद में चर्चा की जाएगी. हालांकि उन्होंने कहा है कि नोट बदलने का प्रस्ताव 2017 की विधायी प्राथमिकताओं में शामिल नहीं है. उनके मुताबिक, "नए नोटों को लागू करने से इंडोनेशिया की मुद्रा में भरोसा मजबूत होगा, लेकिन इससे व्यावहारिक मायनों में बदलेगा कुछ नहीं.” 

एके/एमजे (रॉयटर्स)

देखिए ऐसे बनते हैं करारे करारे नोट

DW.COM

संबंधित सामग्री