भारत अपना मिसाइल बुखार उतारे: चीनी मीडिया | दुनिया | DW | 05.01.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत अपना मिसाइल बुखार उतारे: चीनी मीडिया

भारत की लंबी दूरी की मिसाइलों के हालिया परीक्षणों पर चीनी मीडिया में तीखी प्रतिक्रिया हुई है. ग्लोबल टाइम्स अखबार का कहना है कि दुनिया भारत को नहीं रोकेगी तो फिर पाकिस्तान को रोकना भी मुश्किल होगा.

चीनी अखबार ने अपने संपादकीय को नाम दिया है: भारत अपना मिसाइल-बुखार उतारे. अखबार लिखता है, "अगर पश्चिमी देश भारत को एक परमाणु देश के तौर पर स्वीकार करते हैं और भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु हथियारों की रेस से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता है, तो फिर चीन भी उन जरूरी नियमों के साथ चिपका नहीं रहेगा. ऐसे में, पाकिस्तान को भी ऐसी परमाणु गतिविधियां चलाने का अधिकार होना चाहिए जो भारत चला रहा है.”

यह लेख सोमवार को भारत की अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल अग्नि के परीक्षणों के संदर्भ में लिखा गया है. चीनी अखबार कहता है कि अग्नि चार मिसाइल चार हजार किलोमीटर तक मार कर सकती है और ये परमाणु असलाह ले जाने में भी सक्षम है. इससे पहले भारत ने अग्नि पांच मिसाइल का सफल परीक्षण किया जो पांच हजार किलोमीटर तक मार कर सकती है. इस तरह ये मिसाइलें यूरोप और चीन के सबसे उत्तरी इलाके तक मार करने की क्षमता रखती हैं.

देखिए कितनी ताकतवर है चीन की सेना

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है, "अगर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को इस पर (मिसाइलों पर) कोई आपत्ति नहीं है, तो फिर ठीक है. पाकिस्तानी परमाणु मिसाइलों की मारक क्षमता भी बढ़ेगी. अगर दुनिया इसकी आदत डाल सकती है तो चीन भी डाल लेगा.” इस तरह, लेख में पाकिस्तान को अत्याधुनिक हथियारों से लैस करने की बात कही गई है.

अखबार कहता है कि भारत अगर इसी तरह आगे बढ़ता रहा, तो फिर चीन भी खामोश नहीं रह सकता. उसके मुताबिक, "चीनी लोग भारत के इस घटनाक्रम से कोई बड़ा खतरा महसूस नहीं करते. और दीर्घकालीन रूप से चीन भारत को अपना मुख्य प्रतिद्वंद्वी नहीं समझता. लेकिन अगर वह बहुत आगे जाता है तो फिर चीन भी खामोश नहीं रहेगा.”

अखबार के मुताबिक भारत हर मामले में चीन से अभी बहुत पीछे है. लेख के अनुसार भारत की कुल जीडीपी चीन की जीडीपी के लगभग 20 प्रतिशत है. चीन की परमाणु मिसाइलें बहुत पहले ही पूरी दुनिया में मार करने की क्षमता हासिल कर चुकी हैं. चीनी अखबार के अनुसार चीन की सैन्य औद्योगिक क्षमता भारत से कहीं बेहतर है.

ये हैं दुनिया की 10 सबसे बड़ी सेनाएं

DW.COM

संबंधित सामग्री