1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चीन में छायी चीनी बोलने वाली ट्रंप की नातिन

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के चीनी दौरे की मीडिया कवरेज में जहां व्यापार और उत्तर कोरिया जैसे मुद्दे छाये रहे, वहीं सोशल मीडिया पर चीनी बोलने वाली ट्रंप की नातिन ने लोगों का दिल जीत लिया.

ट्रंप की नातिन अराबेला कुशनर का वीडियो खासा वायरल हो रहा है, जिसमें वह चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और उनकी पत्नी पेंग लियुआन को दादा और दादी कहते हुए चीनी भाषा में उनका अभिवादन कर रही है. अराबेला ट्रंप की बेटी और इवांका और उनके वरिष्ठ सलाहकार जेरार्ड कुशनर की बेटी है. इस वीडियो में अराबेला को कई चीनी कविताएं और पारंपरिक गीत गाते हुए भी देखा जा सकता है. यह वीडियो ट्रंप ने शी से अपनी मुलाकात में उन्हें दिखाया. आप भी वीडियो देखिए.

चीन में जाकर नरम पड़े ट्रंप से सुर

चीन की सरकारी एजेंसी शिन्हुआ ने इंटरनेट पर इस वीडियो को जारी किया है. एजेंसी की रिपोर्ट में बताया गया है कि शी ने छह साल की अराबेला के बारे में कहा कि उसकी चीनी भाषा "ए+" दर्जे की है. चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनइंग ने कहा कि चीनी जनता भी राष्ट्रपति शी की बात से सहमत है. उनके मुताबिक, "चीनी-अमेरिकी दोस्ती की एक नन्ही राजदूत होने के नाते अराबेला ने पहले ही बहुत सारे चीनी लोगों का प्यार हासिल कर लिया है."

चीन के इंटरनेट स्टारों की गुमनाम जिंदगी

वहीं चीन में ट्विटर जैसी सोशल मीडिया वेबसाइट वाइबो पर भी लोग अराबेला की तारीफें कर रहे हैं. हालांकि यह नहीं पता है कि ट्रंप की यात्रा के जुड़े बयानों को कितना सेंसर किया गया है. एक यूजर ने अराबेला के बारे में लिखा, "वह बहुत ही प्यारी है. चलिए उम्मीद करते हैं कि वह किसी चीनी परिवार में शादी करेगी." वैसे यह पहला मौका नहीं है जब चीनी-अमेरिकी संबंधों के सिलसिले में अराबेला का नाम सुर्खियों में है. जब अप्रैल में शी अपने अमेरिकी दौरे में फ्लोरिडा के मार आ लागो रिसोर्ट में गये तो अराबेला ने शी के सम्मान में कुछ प्राचीन चीनी पंक्तियां पढ़ी थीं.

अराबेला की मां इवांका का कहना है कि उनके बच्चों की एक चीनी नैनी है और वही उन्हें चीनी गीत सिखाती हैं. इवांका अपने सोशल मीडिया अकाउंट से अकसर ऐसे वीडियो पोस्ट करती हैं जिनमें अराबेला चीनी गीत गाते हुए देखी जा सकती है.

एके/एनआर (एएफपी)

DW.COM