1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

चीन ने उतारी 1,400 पैसेंजरों वाली मेगा बस

चीन ने एक बार में 1,400 यात्रियों को मंजिल तक पहुंचा सकने वाली बस का रोड टेस्ट किया. ट्रांजिट एलिवेटेड बस मेट्रो रेल की तुलना में बहुत सस्ती और इको फ्रेंडली बताई जा रही है.

ट्रांजिट एलिवेटेड बस (टीईबी-1) को हेबेई प्रांत के क्विनहुआनग्दाओ शहर में टेस्ट किया गया. चीन के सरकारी अखबार पीपल्स डेली के मुताबिक 22 मीटर लंबी और 7.8 मीटर चौड़ी बस के लिए सड़क पर खास ट्रैक बनाया गया. यह बस चलते समय अपने नीचे एक सुरंग सी बनाती है, जिसमें कारें आराम से चल सकती हैं. 1,400 यात्री क्षमता वाली टीईबी-1 वायु प्रदूषण को भी कम करती है.

TEB-1 Bus China

भीतर ऐसी है टीईबी

इसी साल मई में चीन की कंपनी ने इस बस की तस्वीरें पहली बार सार्वजनिक कीं. इसे लैंड एयरबस नाम भी दिया गया. बस असल में दो लेनों के बराबर चौड़ी है. सीटिंग कंपार्टमेंट सड़क से बहुत ऊपर है. नीचे इतनी जगह रहती है कि दो लेन की कारें आराम से गुजर सकें. बस खड़ी भी रहे तो भी कारें नीचे से गुजर सकती हैं. खास ट्रैक पर चलने वाली यह बस अधिकतम 60 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार हासिल कर सकती है.

टीईबी प्रोजेक्ट मुख्य इंजीनियर एसोंग योउझोउ के मुताबिक, "इस बस का सबसे बड़ा फायदा यह है कि ये सड़क पर बहुत ज्यादा जगह बचाती है." बस, मेट्रो की तरह ही काम करती है. मेट्रो के मुकाबले इस बस को चलाने का खर्च 84 फीसदी कम है. टीईबी के लिए ढांचा खड़ा करना रेल के मुकाबले काफी सस्ता है. इसमें समय भी ज्यादा नहीं लगता.

एक टीईबी, 40 सामान्य बसों के बराबर है. 40 बसों के खर्चे से तुलना की जाए तो एक साल में टीईबी 800 टन तेल बचाएगी. कार्बन उत्सर्जन में भी 2,480 टन की कमी आएगी. चीन के कई शहरों ने इस प्रोजेक्ट में दिलचस्पी दिखाई है. अगले एक दशक में चीन के कई शहरों में टीईबी दौड़ती नजर आएगी.

(देखिये: इंजीनियरिंग के जबरदस्त नमूने)

DW.COM

संबंधित सामग्री