1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

भारत में भेदभाव से लड़ती एड्स पीड़ित कार्यकर्ता

अच्छी थेरेपीज की वजह से एड्स पीड़ित लोग अब पहले से कहीं ज्यादा जी रहे हैं. 18 साल हो गये जब भारत की मोना बालानी एचआईवी पॉजिटिव पायी गयी थीं. वह ऐसी दुनिया का ख्वाब देखती हैं जहां एड्स वाले लोगों से कोई भेदभाव न हो.

वीडियो देखें 02:36

भारत में एड्स पीड़ितों से भेदभाव

दुनिया एड्स के शिकंजे में

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री