1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

99 दिन दूर, तैयारी अधूरी

ब्राजील विश्व कप में अब बस 99 दिन की दूरी रह गई है. 12 में से चार स्टेडियम अब तक पूरे तैयार नहीं हैं. तैयारियों में देरी के लिए तमाम आलोचना के बीच ब्राजील पर्टकों को लुभाने की पूरी कोशिश में लगा है.

विश्व कप का पहला मुकाबला 12 जून को साओ पाओलो में मेजबान ब्राजील और क्रोएशिया के बीच होना है. यही स्टेडियम अब तक पूरा नहीं हुआ है. वहीं आयोजक मेहमानों को ब्राजील लाने के लिए तरह तरह की जुगत लगा रहे हैं. मात्र 100 दिन बाकी रहने के मौके पर कल देश के प्रमुख पर्यटन आकर्षण केंद्रों को रौशन किया गया. ऐतिहासिक इमारतों, पुलों और विश्व कप के लिए तैयार किए गए स्टेडियमों को भी पीली हरी लाइट से प्रकाशमान किया गया.

बहुत काम बाकी

अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल संगठन फीफा ब्राजील की तैयारियों में ढिलाई की आलोचना करता आ रहा है. फीफा के महासचिव जीरोम वाल्के ने कहा, "अभी भी बहुत सारा काम बाकी है, हम समय सीमा के बहुत पास हैं." पहले मैच की मेजबानी कर रहे साओ पाओलो स्टेडियम की तैयारियों में देरी के बारे में वाल्के ने कहा कि देर होने पर स्टेडियम की सीटों पर नंबर लिखे जाने में मुश्किल हो सकती है, "और इसे हम टालना चाहेंगे."

वाल्के ने बताया कि स्टेडियम में दूर संचार संबंधी सुविधाओं का इंस्टॉल किया जाना अभी बाकी है. उन्हें साओ पॉलो स्टेडियम के 15 मई से पहले तैयार होने की उम्मीद भी नहीं है.

Brasilien WM 2014 FIFA-Treffen in Zurich 01.03.2014

फीफा के महासचिव जीरोम वाल्के ने तैयारियों को लेकर भारी चिंता जताई

ब्राजील को विश्व कप का आयोजन कराने की जिम्मेदारी 2007 में दी गई थी, लेकिन अब तक उनके पांच स्टेडियमों का उद्घाटन बाकी है. दो स्टेडियम तो विश्व कप के कुछ दिन पहले ही पूरी तरह तैयार मिल पाएंगे.

पीली हरी बत्तियों से स्वागत

मंगलवार को देश भर में पर्यटकों के आकर्षण केंद्रों समेत विश्व कप के स्टेडियम पीली और हरी लाइटों से जगमगा रहे थे. ये ब्राजील के झंडे के रंग हैं. ब्राजील की राष्ट्रपति डिलमा रूजेफ ने ट्विटर पर लिखा, "सभी ब्राजील वालों के लिए आज का दिन खास है. विश्व कप में बस 100 दिन बाकी हैं और देश महोत्सव की तैयारियों के अंतिम चरण में है." उन्होंने आगे लिखा कि ब्राजील वाले यह दिखाने के लिए तैयार हैं कि मेहमानों का स्वागत कैसे किया जाता है और कि इस विश्व कप को कैसे यादगार बनाया जा सकता है. 1950 के बाद से यह पहला मौका है जब ब्राजील विश्व कप की मेजबानी करने जा रहा है.

विश्व कप के आयोजनों पर खर्च हो रही राशि के विरोध में साल भर से भारी प्रदर्शन भी हो रहे हैं. इस बीच तैयारियों में देरी के कारण उसे दुनिया भर से आलोचना भी झेलनी पड़ रही है. पिछले दिनों आयोजकों को हैकरों ने भी धमकी भी दी है कि वे विश्व कप के दौरान वेबसाइटों को हैक और डाटा की चोरी करेंगे.

एसएफ/एएम (डीपीए, एएफपी)

संबंधित सामग्री