1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

8 अप्रैल को होंगे निरस्त्रीकरण संधि पर दस्तख़त

रूस और अमेरिका के बीच नई निरस्त्रीकरण संधि पर हस्ताक्षर अगले सप्ताह 8 अप्रैल को प्राग में होंगे. उसके बाद राष्ट्रपति बराक ओबामा प्राग में मध्य और पूर्व यूरोप के 11 देशों के नेताओं के साथ मिलेंगे.

default

राष्ट्रपति बराक ओबामा और रूसी राष्ट्रपति दिमित्री मेद्वेदेव गुरुवार 8 अप्रैल को स्टार्ट संधि की उत्तराधिकारी संधि पर हस्ताक्षर करेंगे. कई महीनों से चल रही बातचीत और सौदेबाजी के बाद पिछले सप्ताह दोनों देशों के राष्ट्रपति नई संधि करने पर सहमत हुए थे. 1991 में हुई स्टार्ट संधि को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शस्त्र नियंत्रण की आधारशिला समझा जाता है.

नई संधि में वाशिंगटन और मॉस्को ने अपने परमाणु शीर्ष मुखों की संख्या को 2200 से घटाकर 1550 पर सीमित कने पर सहमत हुए हैं. इस संधि को लागू किए जाने से पहले दोनों देशों की संसद को इसका अनुमोदन करना होगा. संधि का अनुमोदन हो जाने के बाद उसे लागू करने के लिए दोनों देशों के पास सात साल का समय होगा.

START I Abkommen 1991

1991 में हुई स्टार्ट संधि

ओबामा ने एक साल पहले प्राग में दिए गए एक भाषण में परमाणु हथियार रहित विश्व की वकालत की थी. इसी की वजह से प्राग को नई निरस्त्रीकरण संधि पर हस्ताक्षर के लिए चुना गया है. परमाणु हथियारों की समाप्ति के ओबामा के प्रयास गत दिसम्बर में उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के फ़ैसले के कई कारणों में से एक था.

ओबामा के प्रवक्ता रॉबर्ट गिब्स ने कहा है कि प्राग में संधि पर हस्ताक्षर के बाद 11 पूर्व और मध्य यूरोपीय देशों के नेताओं के साथ एक भोज समारोह होगा. इसमें चेक गणतंत्र के राष्ट्रपति वात्सलाव क्लाउस और प्रधानमंत्री यान फ़िशर के अलावा बुल्गारिया, क्रोएशिया, हंगरी, लिथुएनिया, पोलेंड, स्लोवाकिया और स्लोवेनिया के प्रधानमंत्री शामिल होंगे. एस्तोनिया, लाटविया और रुमानिया के राष्ट्रपतियों को भी निमंत्रण मिला है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री