1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

65 लाख डॉलर में बिका हीरा, विकास कामों पर लगेगा पैसा

दुनिया के सबसे बड़े हीरों में से एक को 65 लाख डॉलर बेचा गया है. यह हीरा अफ्रीकी देश सिएरा लियोन ने बेचा है और इससे मिलने वाली राशि को स्थानीय स्तर पर विकास परियोजनाओं में लगाया जाएगा.

अंडे के आकार वाला यह हीरा एक ईसाई पादरी एमानुएल मामोह को मिला था, जिन्होंने इसे सिएरा लियोन की सरकार को सौप दिया था. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हीरों के कारोबार से जुड़े एक नेटवर्क रापापोर्ट ग्रुप के मुताबिक 709 कैरट के इस हीरे को न्यूयॉर्क में हुई नीलामी के दौरान एक ब्रिटिश अरबपति और जौहरी लॉरेंस ग्राफ ने खरीदा. 

रापापोर्ट ग्रुप से जुड़े मार्टिन रापापोर्ट का कहना है कि "पीस डायमंड" कहे जा रहे इस हीरे की बिक्री से सरकार को 59 प्रतिशत यानी 39 लाख डॉलर की रकम टैक्स राजस्व के तौर पर मिलेगी जिसे साफ पानी, बिजली, स्कूल निर्माण, स्वास्थ्य केंद्र और सड़क बनाने में लगाया जाएगा.

अपनी शान खो रहा है शजर पत्थर

नीलाम होगा नेपोलियन के मुकुट पर सजा भारतीय हीरा

सिएरा लियोन के राष्ट्रपति एर्नेस्ट बाई कोरोमा के प्रवक्ता अब्दुलाई बायरायताय ने कहा, "एक सरकार के तौर पर, खास कर अफ्रीका में, अकसर यही सुनने को मिलता है कि भ्रष्टाचार हो गया या फिर खनिज संपदा का फायदा स्थानीय लोगों को नहीं मिल रहा है."

यह पहला मौका है जब सिएरा लियोन में मिलने वाले किसी हीरे की इस तरह से सार्वजनिक बिक्री की गयी है और सरकारी अधिकारियों को उम्मीद है कि यह हीरों के गैर कानूनी कारोबार को रोकने की दिशा में एक अहम कदम होगा.

हीरों के कारण 1990 के दशक में सिएरा लियोन में गृह युद्ध को बढ़ावा मिला जब विद्रोहियों ने आम लोगों से जबरदस्ती जमीन से हीरे निकलवाए और उनसे मिलने वाले पैसों से हथियार खरीदे. इसीलिए इन्हें "खूनी हीरे" कहा गया.

संयुक्त राष्ट्र ने 2003 में सिएरा लियोन से हीरों के निर्यात पर लगा प्रतिबंध हटा दिया, लेकिन करोड़ों डॉलर वाला यह कारोबार तस्करी की समस्या से जूझ रहा है.

वीडियो देखें 04:08

चमक के पीछे

रापापोर्ट का कहना है कि बाकी बची राशि विकास परियोजनाओं की निगरानी करने वाले स्थानीय समूहों, पादरी और उन खनिकों को जाएगी जिन्होंने यह हीरा जमीन से खोदा और इसे सरकार को सौंपा. यह हीरा सिएरा लियोन के पूर्वी जिले कोनो में मिला. वहां के जिला प्रमुख पॉल न्गाबा सैक्वी ने न्यूयॉर्क में कहा, "इससे खनिकों का हौसला मजबूत होगा. अंधेरे कोनों में जहां उन्हें हीरे मिलते हैं, वहां हीरे को इधर उधर करने की बजाय वे अब उसे सरकार के सामने मेज पर रखेंगे. शायद यह सिएरा लियोन में एक नये युग की शुरुआत होगी. "

वैसे इस हीरे को बेचने की पहली कोशिश मई महीने में नाकाम रही जब सिएरा लियोन ने इसे 78 लाख डॉलर में बेचने से इनकार कर दिया था. रापापोर्ट के अनुसार इस बार इस हीरे को 70 संभावित खरीददारों को दिखाया गया, जिसमें से सात लोगों ने इसे खरीदने में दिलचस्पी दिखायी.

एके/एनआर (थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेसन)

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो