1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

300 लोगों का हत्यारा रिहा

दुनिया के सबसे कुख्यात हत्यारों में से एक पॉपआई कोलंबिया की जेल से रिहा हुआ. पॉपआई ने 300 लोगों की हत्या की और मर्डर के 3,000 मामलों की साजिश रची. लेकिन अब उसे खुद अपनी जान का डर सता रहा है.

22 साल की सजा काटने के बाद "पॉपआई" के नाम से मशहूर जॉन खायरो वेलासकेस भारी सुरक्षा के बीच जेल से बाहर निकला. पुलिस के मुताबिक एक जमाने के दुर्दांत अपराधी को रिहाई के बाद अपनी हत्या की आशंका है. अदालत ने 30 साल की सजा पा चुके वेलासकेस को पैरोल पर रिहा किया.

रिहाई पर कोलंबिया के लोगों की राय बंटी हुई है. मृतकों के परिजनों ने अदालत में पैरोल का विरोध किया. वहीं रिहाई के बाद कुछ लोगों ने कहा कि जेल में 22 साल बिताने के बाद वेलासकेस को सुधार का एक मौका दिया जाना चाहिए. वेलासकेस 18 साल की उम्र में अपराध की दुनिया में आया. सबसे पहले वह कोकीन तस्करी से जुड़ा. धीरे धीरे वह मादक पदार्थों की तस्करी और अपहरण का रैकेट चलाने वाले पाब्लो एस्कोबार का सबसे भरोसमंद हाथ बन गया.

तस्करी के चलते गैंग के प्रमुख एस्कोबार की तलाश अमेरिका में होने लगी. प्रत्यर्पण से बचने के लिए एस्कोबार ने जजों, कैबिनेट मंत्रियों और पत्रकारों की हत्या कराई. हत्याओं में वेलासकेस ने अहम भूमिका निभाई. अगस्त 1989 में पूर्व पत्रकार और राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार लुइस कार्लोस गालान ने चुनाव जीतने के बाद अपराधियों पर सख्ती करने का वादा किया. लेकिन चुनाव प्रचार के दौरान 1989 में गालान की गोली मारकर हत्या कर दी गई.

Kolumbien John Jairo Velasquez

जॉन खायरो वेलासकेस

1990 में आखिरकार पुलिस ने वेलासकेस को दबोच ही लिया. सैकड़ों हत्याओं के बावजूद उस पर सिर्फ गालान की हत्या का दोष साबित हुआ. 1993 में कोलंबिया और अमेरिका की पुलिस ने एक संयुक्त ऑपरेशन में एस्कोबार को भी मार गिराया.

जेल में 22 साल की सजा काटने के दौरान वेलासकेस ने पत्राचार के माध्यम से पढ़ाई भी. वह कई डिग्रियां हासिल कर चुका है. वह मृतकों के परिजनों से माफी भी मांग चुका है. लेकिन अपने अपराधों के लिए माफी मांगने के बावजूद वेलासकेस अब भी अपने तस्कर बॉस एस्कोबार को याद करता है, "अगर पाब्लो एस्कोबार जिंदा हो जाएं तो मैं आज भी बिना सोचे उनके साथ चला जाऊंगा."

ओएसजे/एमजे (एपी)

DW.COM