1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

3डी प्रिंटर से असली जेट इंजन

क्या 3डी प्रिंटर से असली मशीन बनाई जा सकती है? ऑस्ट्रेलिया के रिसर्चरों ने इस सवाल का जवाब एक जेट इंजन बनाकर दिया. 3डी प्रिंटर से बना ये जेट इंजन काम भी करता है.

मेलबर्न की मोनाश यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने ऑस्ट्रेलियन इंटरनेशनल एयरशो के दौरान यह जेट इंजन पेश किया. मोनाश यूनिवर्सिटी के अधिकारी इयान स्मिथ के मुताबिक, "यह पूरी तरह काम करने वाला जेट इंजन है. यह ऐसा नहीं है कि आप इसे ए380 में लगा दें, लेकिन ऐसा भी होगा."

3डी प्रिंटर से बना नया इंजन उड़ान क्षेत्र को फटाफट नए मॉडल बनाने और उनकी समीक्षा करने का मौका देगा. यह काफी किफायती भी होगा. स्मिथ ने कहा, "आप चीजों को बड़ी तेजी से बेहतर कर सकते हैं और आपको पूरे हिस्से को बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी."

Kugellager aus 3D Drucker Fab Lab in Aachen

डिजाइनिंग में 3डी प्रिंटर का इस्तेमाल

तीन साल पहले बाजार में आई 3डी प्रिटिंग तकनीक का अब बड़े पैमाने पर उपयोग हो रहा है. इंजीनियरिंग डिजाइन और परीक्षण के लिए इसका बहुत ही ज्यादा इस्तेमाल होने लगा है. ऑस्ट्रेलियाई रिसर्चरों ने प्रिटिंग के लिए हल्की धातु का पाउडर लिया. इसकी मदद से बेहद गर्मी में काम करने वाला जेट इंजन बनाया जा सका.

उम्मीद है कि यह तरीका विमान निर्माण के क्षेत्र में बदलाव लाएगा. स्मिथ का दावा है कि 3डी प्रिंटर से भविष्य में 40 फीसदी हल्के जेट इंजन बनाए जा सकेंगे. इसकी मदद हफ्तों तक चलने वाला काम कुछ घंटों में सिमट जाएगा.

रिसर्चर टीम ने अपनी खोज के साथ बाजार में उतरने का फैसला भी किया है. रिसर्चर टीम ने एमायरो नामकी कंपनी बनाई है. फ्रांस की बहुराष्ट्रीय कंपनी साफ्रां और एयरबस ने प्रोजेक्ट में दिलचस्पी दिखाई है.

ओएसजे/आरआर (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री