1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

21 जून बना विश्व योग दिवस

सदियों से भारत में मशहूर योग को अब अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलने जा रही है. वैसे तो योग भारत में ही नहीं दुनिया भर में मशहूर है लेकिन मोदी के प्रस्ताव के बाद यूएन ने 21 जून को योग दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष सैम के कुटेसा ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने की घोषणा की और कहा कि 170 से अधिक देशों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के प्रस्ताव का समर्थन किया है, जिससे पता चलता है कि योग के अदृश्य और दृश्य लाभ विश्व के लोगों को कितना आकर्षित करते हैं. संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बधाई दी, जिनकी पहल से 21 जून को हर साल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया गया है.

उन्होंने कहा कि सदियों से सभी वर्गों के लोग शरीर और मन को एकाकार करने में सहायक योग का अभ्यास करते आए हैं. कुटेसा के मुताबिक, "योग विचारों और कर्म को सामंजस्यपूर्ण ढंग से एकाकार करता है और स्वास्थ्य को ठीक रखता है."

भारत में इससे पहले 2011 में हुए एक योग सम्मेलन में 21 जून को विश्व योग दिवस के तौर पर घोषित किया गया था. इस दिन को इसलिए चुना गया क्योंकि 21 जून साल का सबसे लंबा दिन होता है और समझा जाता है कि इस दिन सूरज, रोशनी और प्रकृति का धरती से विशेष संबंध होता है. इस दिन को किसी व्यक्ति विशेष को ध्यान में रख कर नहीं, बल्कि प्रकृति को ध्यान में रख कर चुना गया है. संयुक्त राष्ट्र में भारत के लिए पिछले सात सालों में यह इस तरह का दूसरा सम्मान है. इससे पहले यूपीए सरकार की पहल पर 2007 में संयुक्त राष्ट्र ने महात्मा गांधी के जन्मदिन यानि 2 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के तौर पर घोषित किया था.

5000 साल पुराना है योग

इस मौके पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा, "इस क्रिया से शांति और विकास में योगदान मिल सकता है. यह मनुष्य को तनाव से राहत दिलाता है." बान ने सदस्य देशों से अपील की कि वे योग को प्रोत्साहित करने में मदद करें.

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शाकाहारी हैं और रोजाना योग करते हैं. उन्होंने सितंबर महीने में संयुक्त राष्ट्र में अपनी पहली भाषण में योग के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाने का प्रस्ताव दिया था. मोदी ने अपनी कैबिनेट में योग के लिए के अलग मंत्रालय भी बनाया है. इस खबर के बाद मोदी ने ट्वीट किया, "मैं उन सभी 177 देशों का शुक्रिया अदा करता हूं जिन्होंने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने की घोषणा के लिए पेश किए गए प्रस्ताव को अपना समर्थन दिया. मैं इस निर्णय का पूरा समर्थन करता हूं. योग में पूरी मानव जाति को एकजुट करने की शक्ति है. यह ज्ञान, कर्म और भक्ति का आदर्श मिश्रण है. दुनिया भर के अनगिनत लोगों ने योग को अपने जीवन का अभिन्न अंग बनाया है. उन्हें बधाई हो. योग दिवस को मनाने से कई और लोग योग को अपने जीवन में अपनाएंगे."

योग 5,000 साल पुरानी भारतीय शारीरिक मानसिक और आध्यात्मिक पद्धति है जिसका लक्ष्य शरीर और मस्तिष्क में सकारात्मक परिवर्तन लाना है.

एए/एजेए (पीटीआई, वार्ता)

DW.COM