1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

2022 विश्व कप गर्मी में नहीं

नब्बे साल से भी ज्यादा गर्मियों में खेला गया फुटबॉल विश्व कप मौसम बदल रहा है. कतर में 2022 का वर्ल्ड कप ज्यादा तापमान की वजह से गर्मियों में नहीं, पहली बार सर्दियों में खेला जाएगा.

फुटबॉल की अंतरराष्ट्रीय संस्था फीफा के महासचिव जेरोमे वाल्के ने बुधवार को इस बात का एलान किया. कतर को 2010 में ही फुटबॉल विश्व कप की मेजबानी मिली थी, जिसके बाद से ही विवाद चला आ रहा है. गर्मियों में आम तौर पर वहां तापमान 50 डिग्री के आस पास होता है और ठंडे मुल्कों के खिलाड़ियों और फुटबॉल प्रेमियों के लिए उस मौसम में खुले आसमान के नीचे उसे बर्दाश्त कर पाना मुमकिन नहीं.

फीफा के दूसरे सबसे ताकतवर अफसर वाल्के ने रेडियो फ्रांस से कहा, "कतर वर्ल्ड कप की तारीख जून जुलाई में नहीं होगी. ईमानदारी से कहें तो यह नवंबर 15 और जनवरी 15 के बीच होनी चाहिए." फुटबॉल का पहला विश्व कप 1930 में उरुग्वे में खेला गया. तब से हर चार साल पर यह दुनिया के अलग अलग देशों में खेला गया लेकिन वक्त नहीं बदला. हर बार यह जून जुलाई में ही हुआ. एकाध बार इसकी शुरुआत मई में जरूर हुई. ब्राजील में इस दौरान सर्दी पड़ती है लेकिन उसकी वजह से तारीखों में बदलाव नहीं किया गया.

अब वक्त बदलने के बाद नया विवाद सामने आ सकता है. फुटबॉल वर्ल्ड कप किसी एक खास साल में खेला जाता है, अगर इसे 2022 के दिसंबर में शुरू कर 2023 के जनवरी में खत्म किया जाता है, फिर इसे 2022 वर्ल्ड कप के तौर पर नामित नहीं किया जा सकेगा. हो सकता है कि आने वाले दिनों में फीफा 2022 के अंतिम दिनों में ही इसके आयोजन के ड्राफ्ट को आखिरी रूप दे दे. जनवरी में शुरू करके 15 दिन में मुकाबला खत्म करना तो मुश्किल है.

वाल्के का कहना है, "अगर आप 15 नवंबर से दिसंबर के आखिर तक खेलते हैं, तो यही वक्त है कि जब मौसम सबसे अच्छा होता है. तब वैसा ही मौसम रहता है, जैसा यूरोप के गुनगुने वसंत ऋतु में, जब तापमान 25 डिग्री के आस पास होता है. फुटबॉल खेलने के लिए यह बिलकुल सही है." वाल्के ने अभी नहीं बताया है कि क्या वह 2021-22 वर्ल्ड कप कराना चाहेंगे या 22-23 क्योंकि इसका फैसला बहुत हद तक सर्दियों के ओलंपिक से भी होगा.

कतर को वर्ल्ड कप की मेजबानी मिलने के बाद उसने तैयारियां शुरू कर दी हैं और विवादों के बीच एक बार एयरकंडीशन स्टेडियम बनाने की भी बात चली. हालांकि इन पर ज्यादा जोर नहीं दिया गया. शुरू से ही इसका वक्त बदलने की मांग चल रही है. अब वक्त बदलने से यूरोपीय लीग के मुकाबलों पर असर पड़ सकता है, जो सीजन के बेहद अहम पड़ाव में होते हैं. उस दौरान चैंपियंस लीग जैसे मुकाबलों के भी अहम मैच होते हैं.

वर्ल्ड कप आयोजन समिति के कतर के अधिकारियों ने कहा है कि वे 2022 वर्ल्ड कप को सफल बनाने के लिए हर कोशिश करेंगे. इसके महासचिव हसन अल थावादी ने कहा, "शुरू से ही हमने हमेशा कहा है कि हम गर्मियों में वर्ल्ड कप करा सकते हैं. स्टेडियमों को ठंडा रखने की हमारी योजना हमारे महान प्रयासों का हिस्सा हो सकते हैं. लेकिन अगर फुटबॉल संस्था या फीफा इसे सर्दियों में कराना चाहे, तो भी हम खुश हैं. अगर गर्मी में कराएंगे, तो भी हम तैयार हैं."

अक्टूबर में फीफा ने कहा था कि वे सभी पक्षों की बात सुनेंगे, जिनमें खिलाड़ी, क्लब, लीग, संघ और प्रायोजक शामिल हैं और उसके बाद ही कोई फैसला किया जाएगा. अब नई तारीखों के एलान के बाद यूरोप के बड़े क्लबों की प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा.

एजेए/एमजे (एपी, डीपीए, एएफपी)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री