1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

17 दिन से खदान में फंसे 33 लोग जिंदा हैं

चिली में 33 खदान कर्मचारियों के परिजनों के चेहरे पर उस समय खुशी लौट आई जब पता चला कि 17 दिन से फंसे ये लोग जीवित हैं और सुरक्षित हैं. उन्हें ऑक्सीजन की कमी नहीं है. रविवार को संदेश भेजा गया.

default

चिली के राष्ट्रपति सेबास्टियान पिनेरा ने टीवी पर लाल पेंट से लिखा कागज दिखाया जिसमें लिखा था कि वे सब ठीक हैं. इन कर्मचारियों ने खदान में सुरक्षित जगह शरण ले ली है. उन्होंने संदेश पढ़ा, "हम सभी 33 लोग गुफा में हैं और सब ठीक हैं."

राजधानी सेंटियागो के चौक पर करीब दो सौ लोग इकट्ठा हुए और इस समाचार पर खुशियां मनाई. गाड़ियों के हॉर्न चारों तरफ सुनाई देने लगे और रेस्टोरेंट में बैठे लोगों ने तालियां बजा कर अपनी खुशी जाहिर की.

5 अगस्त को उत्तरी चिली में सोने और तांबे की खदान धंसने के कारण 33 कर्मचारी जमीन के नीचे फंस गए. 17 दिन से उनका कोई अता पता नहीं था. खदान के बाहर राष्ट्रपति ने कहा, "उन्हें निकालने में महीनों लग सकते है. लेकिन सुखांत के लिए ज्यादा समय भी लगे तो कोई बात नहीं."

खदान कर्मचारी जमीन से सात किलोमीटर नीचे हैं और खदान में एक जगह आश्रय लिए हुए हैं जो एक छोटे अपार्टमेंट जितनी जगह है. अधिकारियों ने बताया कि उनके पास सीमित मात्रा में खाने की चीज़ें थी. डॉक्टरों ने उन्हें ग्लूकोज, मिनरल वॉटर और अन्य खाने पीने की चीजें भेजने की सलाह दी है.

63 साल के मारियो गोमेज ने अपनी पत्नी को लिखा, "भगवान महान है. इस कंपनी को अब आधुनिक होना ही होगा लेकिन मैं सबको कहना चाहता हूं कि मैं ठीक हूं और मुझे पूरा विश्वास है कि हम सब सकुशल बाहर निकल आएंगे." खदान में फंसे परिजन के रिश्तेदार ने कहा, "हमने कभी उम्मीद नहीं खोई हम जानते थे कि वे वहां और उन्हें बचा लिया जाएगा."

बचावकर्मी खदान में छेद करके बारीक प्लास्टिक ट्यूब से खाना, दवाई और बातचीत के लिए उपकरण भेजने की योजना बना रहे हैं. कोपियापो के नजदीक इस खदान में पानी और सुराख हैं जिस कारण इन लोगों की जान बची.

मुश्किल ये है कि ये खदान अस्थिर है और इसलिए इसमें छेद करना मुश्किल है. अब योजना है कि एक नया रास्ता खोदा जाए जिसमें से फंसे कर्मचारी बाहर निकल सकें. राहत कर्मचारियों का कहना है कि ये सब करने में करीब 120 दिन लग सकते हैं. चिली के खदान मंत्री लॉरेन्स गेलबॉर्न ने कहा कि राहतकर्मियों को कैमरा और माइक खदान में पहुंचाना चाहिए ताकि उनसे बात की जा सके.

पिनेरा ने इस दुर्घटना के बाद चीली के खदान नियामक अधिकारियों को तुरंत हटा दिया. चिली में इस तरह की गंभीर खदान दुर्घटनाएं बहुत कम होती हैं. लेकिन सरकार का कहना है कि सेन जोसे खदान निजी कंपनी मिनेरा सेन एस्तेबान प्रिमेरा की मिल्कियत में है. इसमें हाल ही में हुई दुर्घटनाओं में 16 कर्मचारी मारे गए.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links