1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

16 का ड्राइवर फॉर्मूला वन में

टोरो रोसो टीम ने फैसला किया है कि सिर्फ 16 साल के माक्स फेरश्टापेन उनके लिए फॉर्मूला वन में रेसिंग करेंगे. हालांकि वह अपनी रेस अक्टूबर में शुरू करेंगे और तब तक 17 के हो जाएंगे. फिर भी रेसिंग इतिहास के सबसे युवा ड्राइवर.

टोरो रोसो के टीम बॉस फ्रांस टोस्ट ने इस योजना की पुष्टि की है कि वरिष्ठ ड्राइवर योश फेरश्टापेन के बेटे माक्स को टीम में शामिल किया गया है. टोस्ट ने सेबास्टियन फेटल और डैनियल रिकार्डो जैसे ड्राइवरों के शुरुआती करियर को भी संवारा है. नीदरलैंड्स के किशोर फेरश्टापेन टीम में फ्रांसीसी ड्राइवर यान-एरिक फेर्गने की जगह लेंगे.

हालांकि उन्हें फॉर्मूला वन में शामिल करने के फैसले पर कई लोगों ने चिंता भी जताई है कि इतनी कम उम्र और परिपक्वता में क्या किसी को फॉर्मूला वन के दहाड़ते ट्रैकों पर भेजा जाना सही है. टोस्ट का कहना है कि फेरश्टापेन को जल्द ही इटली में शुरुआती सबक दिया जाएगा और फिर बाद में रॉटरडाम में उनकी टेस्टिंग होगी. फिर उन्हें तीन साल पुरानी कार दी जाएगी. उसके बाद वह ग्रैंड ग्रां प्री में फ्री टेस्टिंग करेंगे.

मिलेगा पूरा मौका

टोस्ट का कहना है, "हम उन्हें फॉर्मूला वन कार के लिए तैयार होने का पूरा मौका देना चाहते हैं. उसके बाद एक ऑस्टिन (अमेरिकी ग्रां प्री) वाले शुक्रवार से वह अपना सत्र शुरू कर सकते हैं - ऑस्टिन, साओ पाओलो और अबु धाबी, उसके बाद अबु धाबी का टेस्ट."

Max Verstappen

रफ्तार में फेरश्टापेन

फेरश्टापेन का कहना है कि उन्होंने रेड बुल संगठन के साथ 2015 में रेस के लिए एक सीट का वादा पाने के बाद ही करार किया है, "मेरे पापा और फॉर्मूला वन के ड्राइवर रह चुके योश भी मुझे सही रास्ता दिखाते रहे हैं. एफ3 के लिए कार्टिंग एक बड़ा रास्ता था. मैंने वह बहुत जल्दी सीख लिया. मुझे नहीं लगता कि एफ3 से एफ1 में आना बहुत मुश्किल काम है."

पूरे भरोसे से फेरश्टापेन का कहना है, "आप एक बार अगर किसी कार में रेस कर रहे हैं, तो फिर रेसिंग तो रेसिंग है." वह 18 महीने के अंतर से दुनिया के सबसे युवा फॉर्मूला वन ड्राइवर बन सकते हैं.

तैयार या तैयार नहीं

ब्रिटिश ड्राइवर लुइस हैमिल्टन और जर्मन ड्राइवर सेबास्टियन फेटल का मानना है कि वे 17 साल के ड्राइवर का समर्थन नहीं कर सकते. दूसरी तरफ ब्राजीलियाई ड्राइवर फिलिपे मासा कहते हैं, "उसकी उम्र जरा कम है." जर्मनी के आद्रियान सुटिल का कहना है, "यह एक जोखिम भरा कदम है और यह बहुत ताज्जुब की बात है कि एफ3 का आधा सीजन पूरा करने वाले एक ड्राइवर को एफ1 में लाया जा रहा है." वह इसे फेरश्टापेन की जान को खतरा बताते हैं.

लेकिन ऐसे लोग भी हैं जो फेरश्टापेन के साथ हैं. ब्रिटिश ड्राइवर जेनसन बटन का कहना है, "जब मैं 20 साल का था, तो तैयार नहीं था. मैं 23 साल में तैयार हुआ. लेकिन अलग अलग लोग अलग अलग उम्र में तैयार हो सकते हैं." फॉर्मूला वन के अब तक के सबसे युवा ड्राइवर स्पेन के हाइमे अलगेरस्वाय रहे हैं, जिन्होंने 19 साल 125 दिन की उम्र में 2009 में अपने फॉर्मूला वन करियर की शुरुआत की.

फेरश्टापेन का फॉर्मूला 3 में यह पहला साल है और उन्होंने 27 में से आठ रेसों में जीत हासिल की है. पिछले साल उन्होंने केजेड कार्टिंग चैंपियनशिप भी जीती है.

फर्नांडो अलोंजो ने भी 19 साल की उम्र में फॉ़र्मूला वन की शुरुआत की थी और सबसे कम उम्र में रेस और चैंपियनशिप जीती है. उनका कहना है कि उम्र तो सिर्फ पासपोर्ट में दर्ज नंबर है, "कुछ कहने से पहले हमें देखना चाहिए कि फेरश्टापेन अगले साल कैसा करता है. यह बात छह से आठ रेस में पता लग जाएगी."

एजेए/एएम (एएफपी)

DW.COM