1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

15 से 20 मिनट में हो गई थी किम जोंग नाम की मौत

मलेशिया के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के सौतेले भाई किम जोंग नाम की मौत अत्यंत जहरीले पदार्थ के संपर्क आने के 15 से 20 मिनट के भीतर ही हो गई थी.

किम जोंग नाम की मौत 13 फरवरी को क्वालालम्पुर एयरपोर्ट पर हुई थी. दो महिलाओं ने उनके चेहरे पर कुछ द्रव रगड़ दिया था. मलेशिया की पुलिस इसे हत्या का मामला मान रही है. पुलिस का कहना है कि इस मामले में शामिल वियतनाम और इंडोनेशिया की महिलाओं ने प्रतिबंधित पदार्थ वीएक्स इस्तेमाल किया था, जो सीधा तंत्रिका तंत्र पर हमला करता है.

मलेशियाई स्वास्थ्य मंत्री सुब्रमण्यम सतासिवम ने बताया कि इस पदार्थ की 10 मिलीग्राम मात्रा ही किसी की जान लेने के लिए पर्याप्त है, लेकिन उन्हें संदेह है कि किम के मामले में इससे अधिक मात्रा इस्तेमाल की गई.

उन्होंने पत्रकारों को बताया, "मात्रा इतनी ज्यादा थी कि उसने शरीर पर तुरंत असर दिखाया. इससे उनके दिल पर असर हुआ, फेफड़े भी प्रभावित हुए होंगे. इसका असर पूरे शरीर पर पड़ा होगा."

जब उनसे पूछा गया कि किम को मरने में कितना समय लगा तो उन्होंने कहा, "उनकी मौत एंबुलेंस में हो गई थी.. मुझे लगता है कि इसमें 15 से 20 मिनट का समय लगा होगा."

उधर इंडोनेशिया और वियतनाम के राजनयिकों ने शनिवार को इस मामले में गिरफ्तार दोनों महिलाओं से मुलाकात की. महिलाओं का कहना है कि उन्होंने सोचा था कि वे लोगों को बूद्धू बनाने वाले किसी शो का हिस्सा हैं. इंडोनेशियाई दूतावास के अधिकारियों का कहना है कि आरोपी इंडोनेशियाई महिला सिती एसयाह को 90 डॉलर दिए गए थे.

इस मामले में जांच का नेतृत्व कर रहे मलेशियाई पुलिस अधिकारी अब्दुल सामाह मैट का कहना है कि एसयाह जब इस घटना को अंजाम देने के बाद एयरपोर्ट से भागी तो उसने टैक्सी में उल्टी की थी लेकिन अब उसकी तबीयत बिल्कुल ठीक है. पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि क्या इन दोनों महिलाओं को एंटीडोट दिए गए थे ताकि घातक पदार्थ से उनकी जान न जाए.

मलेशिया ने आधिकारिक तौर पर इस मामले में उत्तर कोरिया की सरकार को शामिल नहीं बताया है, लेकिन दोनों देशों के रिश्ते पहले ही तनावपूर्ण हो गए हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि किसी अत्याधुनिक सरकारी प्रयोगशाला की मदद से ही वीएक्स जैसा पदार्थ तैयार हो सकता है. उत्तर कोरिया ने वीएक्स के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने वाली संधि पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं और उसका रासायनिक हथियार कार्यक्रम भी है.

पुलिस को संदेह है कि चार उत्तर कोरियाई लोगों ने इन महिलाओं को यह घातक पदार्थ दिया था और वे हमले के दिन ही मलेशिया छोड़ कर भाग गए. इन दो महिलाओं के अलावा पुलिस ने एक उत्तर कोरियाई व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया है.

मलेशियाई स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अभी इस बारे में कोई रिपोर्ट नहीं है कि क्या वीएक्स के हमले से कोई आसपास का व्यक्ति बीमार पड़ा है, लेकिन किम का इलाज करने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों को निगरानी में रखा गया है. किम कई साल से निर्वासन में रह रहे थे और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के लिए कोई खतरा नहीं थे. उत्तर कोरिया में हाल के सालों में कई वरिष्ठ अधिकारियों को मौत की सजा दी गई है. उधर दक्षिण कोरिया ने किम जोंग नाम की मौत के लिए उत्तर कोरिया को जिम्मेदार ठहराया है.

(किम जोंग उन के पांच साल, कितना बदला उत्तर कोरिया)

एके/एमजे (एपी, एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री