1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

10 साल का फेसबुक

दुनिया की सबसे चर्चित इंटरनेट साइट लड़कपन पार कर रही है. 10 साल का फेसबुक अब एक बालिग उद्योग जैसे काम कर रहा है, जिसकी नजर बाजार के बड़े हिस्से पर है.

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की एक डोरमेट्री में चार फरवरी, 2004 को शुरू हुए फेसबुक का मुकाबला अब सिर्फ खुद से लगता है. तकनीकी विशाल कंपनियों में यह पहले नंबर पर पहुंच चुकी है और गूगल को भी कहना पड़ा है कि उसने सोशल नेटवर्किंग की क्षमता को कम करके आंका.

ग्लोबल इक्विटी के तृप चौधरी का कहना है, "फेसबुक ने दुनिया को बहुत छोटा बना दिया है. फेसबुक ने सामाजिक क्रांति की शुरुआत की लेकिन बाद में वह इसे नियंत्रण में नहीं कर पाया." फेसबुक अपने छोटे से इतिहास में करीब एक अरब लोगों की जिंदगी का हिस्सा बन गया है.

इसके संस्थापक मार्क जुकरबर्ग का कहना है, "इसने दुनिया को ज्यादा खुला और संपर्क वाला बना दिया है." सोशल इंटरनेट फंड के लू केर्नर कहते हैं, "इंटरनेट पर करीब 20 फीसदी समय लोग फेसबुक पर बिताते हैं." लेकिन कई मामलों में फेसबुक अपनी ही कामयाबी का शिकार हो गया है. पहले यह किशोरों और यूनिवर्सिटी जाने वाले छात्रों की साइट थी. अब यह हर किसी की पसंदीदा साइट बन गई है.

मोबाइल पर फेसबुक

इसका दावा है कि दुनिया के करीब 1.23 अरब लोग इसके सदस्य हैं, जिनमें से करीब 95 करोड़ तो इसे मोबाइल पर खोलते हैं. हालांकि कुछ जानकारों का कहना है कि सभी आयु वर्ग के लोगों को ध्यान में रखते हुए फेसबुक को अपनी रणनीति बदलनी चाहिए. आईस्ट्रेटजी लैब्स के एक अध्ययन में पता चला कि 13-17 साल वाली उम्र के लोगों में से एक चौथाई ने फेसबुक छोड़ दिया. लेकिन 55 से ज्यादा उम्र वाले यूजरों की संख्या 80 फीसदी बढ़ गई. केर्नर का कहना है, "लोग मजाक करते हैं कि इस पर रहना कूल नहीं है क्योंकि तुम्हारी मम्मी भी फेसबुक पर हैं. मेरी तो समझ है कि अब सिर्फ मम्मी ही नहीं, दादी भी फेसबुक पर आ गई हैं."

सोशल बेकरी नाम की रिसर्च कंपनी का कहना है कि किशोर वर्ग के लोग ही फेसबुक की कामयाबी का राज हैं. कंपनी के बेन हार्पर कहते हैं, "अभी भी 18-24 साल का ग्रुप सबसे बड़ा है." उनका कहना है कि हालांकि लोग ज्यादा प्लेटफॉर्म इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन अभी भी युवा वर्ग ही फेसबुक की जान है.

हर किसी का पेज

अमेरिका में इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले 71 प्रतिशत बालिग लोग फेसबुक पर हैं, जो कुल वयस्क आबादी का 57 फीसदी है. जाने माने पीऊ रिसर्च सेंटर का कहना है कि 18-29 साल के 89 फीसदी लोग फेसबुक पर जाते हैं, जबकि 50-64 साल उम्र में 60 फीसदी और 65 से ज्यादा उम्र के 45 फीसदी लोग भी फेसबुक पर जुड़े हैं.

हाल के दिनों में यह कंपनी समझदार होती गई है. इसने 2012 में शेयर बाजार में कदम रखा. शुरुआती नुकसान के बावजूद इसने हाल के दिनों में अच्छी कामयाबी हासिल की है. इसने मोबाइल में खास तौर पर विज्ञापन को तरजीह दी है, जिससे इसे खासा राजस्व मिल रहा है. दो साल पहले 2012 में इसका मुनाफा साढ़े पांच करोड़ डॉलर था, जो पिछले साल बढ़ कर एक अरब डॉ़लर से ज्यादा हो गया. राजस्व भी 5.1 अरब से बढ़ कर 7.87 अरब डॉलर हो गया.

एजेए/एएम (एएफपी)

DW.COM