1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हो गयी लंदन आतंकी हमलावर की पहचान

लंदन में ब्रिटिश संसद के पास हमला करने वाला खालिद मसूद ब्रिटिश नागरिक था. एड्रिएन के रूप में पैदा हुए इस व्यक्ति के आपराधिक रिकॉर्ड भी सामने आए हैं. इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी गुट इस्लामिक स्टेट ने कबूल की है.

लंदन में वेस्टमिंस्टर के पास हुए आतंकी हमले में मरने वालों की संख्या बढ़ कर पांच हो गयी है. हमलावर खालिद मसूद मौका ए वारदात पर ही पुलिस की गोली से मारा गया था. मसूद के बारे में गुप्तचर सेवा एमआई5 को भी जानकारी थी और उसका पिछला आपराधिक रिकॉर्ड भी रहा है.

इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी गुट इस्लामिक स्टेट ने कबूल की है. हालांकि पुलिस को अब तक इसके कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं कि वह आईएस के साथ किस तरह से जुड़ा था.

लंदन पुलिस ने बताया, "मसूद पर फिलहाल कोई जांच नहीं चल रही थी. ना ही उसके किसी आतंकी हमले का इरादा रखने के बारे में पहले से कोई जानकारी थी." लेकिन खालिद मसूद पर "दुर्व्यवहार, शारीरिक चोट पहुंचाने, खतरनाक हथियार रखने और कुछ दूसरे नागरिक अपराधों के सिलसिले में पहले भी दोष लगे थे."

52 साल का मसूद लंदन के पास केंट शहर में एड्रिएन रसेल अजाओ के रूप में पैदा हुआ था और उसने कई बार आवास बदला. उसका आखिरी पता बर्मिंघम में था. इस शहर में 213,000 मुसलमान रहते हैं, जो कि यहां कि कुल आबादी का करीब पांचवा हिस्सा है. कई ब्रिटिश इस्लामिस्ट इस शहर से जुड़े पाये गये हैं. इसी महीने प्रकाशित हेनरी जैक्सन थिंक टैंक की स्टडी से पता चला है कि 1998 से 2015 के बीच ब्रिटेन में आतंकवाद संबंधी अपराधों को मामले में दोषी करार दिये गये कुल 269 में से 39 लोग इसी शहर से आते थे. आतंकवाद रोधी पुलिस के प्रमुख मार्क राओली ने बताया है कि अब तक नौ लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है, जिन पर मसूद से जुड़े होने का शक है.

आरपी/एमजे (रॉयटर्स) 

DW.COM

संबंधित सामग्री