होएनेस ने टैक्स चोरी कबूली | खेल | DW | 10.03.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

होएनेस ने टैक्स चोरी कबूली

जर्मन क्लब बायर्न म्यूनिख के अध्यक्ष उली होएनेस ने अदालत के सामने माना है कि उन्होंने करोड़ों यूरो का टैक्स चोरी किया. उन्होंने गुनाह कबूलते हुए चौंकाने वाले खुलासे भी किए. होएनेस जेल जाने से बचना चाह रहे हैं.

सोमवार को जब जर्मन फुटबॉल के सबसे जाने माने मैनेजर उली होएनेस के मुकदमे की सुनवाई शुरू हुई तो पूरी दुनिया की मीडिया की नजर केस पर बनी हुई थी. माना जा रहा था कि होएनेस इस बार भी आरोपों का खंडन ही करेंगे. लेकिन अदालत के सामने टैक्स चोरी की बात स्वीकार कर उन्होंने सबको चौंका दिया. उन्होंने कहा कि गुप्त स्विस बैंक अकाउंट की मदद से उन्होंने 1.85 करोड़ यूरो का घपला किया. यह राशि उन पर लगाए गए इल्जाम से तीन गुना ज्यादा है. सरकारी वकील द्वारा दर्ज की गई चार्जशीट में कहा गया है कि होएनेस ने 2003 से 2009 के बीच 3.35 करोड़ यूरो की आमदनी का ब्योरा नहीं दिया जिस पर उन्हें 35 लाख यूरो का टैक्स चुकाना था.

दस करोड़ यूरो से ज्यादा का घपला करने के आरोप तय हो जाने पर होएनेस को पांच से दस साल की कैद हो सकती है. उन्होंने आरोपों को मानते हुए अदालत से माफी मांगी और मामले में नरमी बरतने की गुजारिश की. 62 साल के होएनेस ने अदालत से कहा, "मुझे खुशी है कि सच्चाई सबके सामने आ गई है. मैं अपने किये पर बेहद शर्मींदा हूं. मैं पूरी कोशिश कर रहा हूं कि इस दुर्भाग्यपूर्ण अध्याय को पीछे छोड़ सकूं." माना जा रहा है कि होएनेस गुनाह कबूल कर जेल जाने से बचना चाह रहे हैं.

उन्होंने अदालत को बताया कि बीते एक दशक में वे अपने स्विस खाते से करीब 50,000 बार लेन देन कर चुके थे. 2003 से 2009 के बीच उन्हें करीब 10 करोड़ यूरो का नुकसान भी उठाना पड़ा, "मैं नहीं समझ पा रहा था कि मैं अपने अकाउंट का प्रयोग मूल रूप से जुए के लिए कर रहा हूं. मेरे लिए यह एक नशा था. उसके बाद मैं रास्ता भटक गया और अंत तक सब बुरी तरह बिगड़ चुका था."

होएनेस के मुकदमे की सुनवाई चार दिन तक चलेगी. सोमवार सुबह अदालत के बाहर करीब सौ पत्रकारों की भीड़ जमा रही. बायर्न म्यूनिख के कई फैन भी होएनेस को अपना समर्थन दिखाने वहां पहुंचे. होएनेस ने कहा कि अब तक जिस तरह से सरकारी वकीलों ने उनके साथ सलूक किया है उससे वे बेहद निराश हैं. उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया, घर की छानबीन की गई और जब जनता को इस बात का पता चला तो उन्हें जान से मार देने की धमकियां भी मिलने लगीं, "मेरे और मेरे परिवार के लिए इसके नतीजे बहुत ही भयानक रहे हैं." उन्होंने कहा कि वे पिछले साल पचास लाख यूरो दान में दे चुके हैं और और पांच करोड़ से ज्यादा टैक्स चुका चुके हैं. इसके बावजूद उनके साथ बदसलूकी की जा रही है.

आईबी/ओएसजे (एपी, रॉयटर्स)

DW.COM