1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

हॉकी सेक्स स्कैंडल में जांच शुरू

यौन शोषण के आरोपों के बाद भारतीय महिला हॉकी टीम के कोच महाराज किशन कौशिक ने इस्तीफ़ा दे दिया है. हॉकी इंडिया ने मामले की जांच शुरू कर दी है और टीम के वीडियोग्राफर वासवराज को हटा दिया है.

default

यौन शोषण के आरोपों की जांच कर रही हॉकी इंडिया की जांच समिति की बैठक के बाद उसके एक सदस्य ज़फ़र इक़बाल ने कहा कि हमने दोनों पार्टियों को सुना है और उनकी तरफ से जवाब आ जाने के बाद हम फैसला करेंगे. भारतीय टीम के पूर्व कप्तान रहे ज़फ़र इक़बाल ने मामले को कमज़ोर बताते हुए कहा, "मैं साजिश की संभावना से इंकार नहीं कर सकता, क्योंकि यह हॉकी इंडिया के चुनाव के समय आया है. लड़की कह रही है यह छह महीने से हो रहा है, तो वह अब क्यों बता रही है? मैंने जब उससे पूछा कि क्या उसके साथ कोई शारीरिक दुर्वव्यवहार हुआ है तो उसने इससे इंकार किया."

हॉकी इंडिया के महासचिव नरिंदर बत्रा ने कहा है कि संस्था यौन शोषण के मुद्दे पर कानूनी राय ले रही है. एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों ने अब तक आरोपों का सबूत नहीं दिया है. हॉकी इंडिया की जांच समिति का नेतृत्व राजीव मेहता कर रहे हैं और उसमें ज़फ़र इक़बाल के अलावा ओलंपियन अजितपाल सिंह और सुदर्शन पाठक भी शामिल हैं. समिति ने बुधवार को कौशिक और शिकायत करने वाली खिलाड़ी रंजीता से पूछताछ की है और उन्हें लिखित जवाब देने को कहा है. उसे जांच समिति के नतीजों के साथ शुक्रवार को स्पोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया के पास कार्रवाई के लिए भेजा जाएगा.

मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी हस्तक्षेप किया है और हॉकी इंडिया से आरोपों पर की गई कार्रवाई की रिपोर्ट देने को कहा है. आयोग की प्रमुख गिरिजा व्यास ने यौन शोषण की रिपोर्टों पर टिप्पणी करते हुए कहा, "मुझे सदमा पहुंचा है. हमने खेल मंत्रालय और हॉकी फ़ेडरेशन से कार्रवाई रिपोर्ट देने को कहा है." आयोग ने अब तक स्वयं अपनी जांच समिति नहीं बनाई है. वह हॉकी इंडिया की रिपोर्ट की प्रतीक्षा करेगी.

उधर भारतीय हॉकी फ़ेडरेशन के अध्यक्ष रहे केपीएस गिल ने आरोपों की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है. गिल ने कहा, "ये अत्यंत गंभीर मामला है और हम किसी भी समिति की जांच पर भरोसा नहीं कर सकते. हमें विस्तृत जांच की ज़रूरत है और मैं सीबीआई जांच की मांग करता हूं. कौशिक के ख़िलाफ़ तुरंत प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए."

महिला हॉकी टीम में सेक्स स्कैंडल के सामने आने के एक दिन बाद कौशिक ने आरोपों को निराधार बताया है और अपने को गहरी साजिश का शिकार बताया है. ओलंपिक खेल चुके कौशिक 1991 से कोच हैं और उनका कांट्रैक्ट चीन में होने वाले एशियाई खेलों के बाद नवम्बर में समाप्त होने वाला था.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एन रंजन

WWW-Links