1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हेग में क्रीमिया पर चर्चा

नीदरलैंड्स के हेग शहर में आज से शुरू हुए तीसरे परमाणु सुरक्षा सम्मेलन में शामिल अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का खास ध्यान क्रीमिया के मुद्दे पर रहेगा. जी8 के सदस्य देशों में से रूस को बाहर करने पर भी विचार चल रहा है.

दो दिन के इस सम्मेलन में ओबामा के साथ विश्व के सात अन्य ताकतवर नेता चर्चा करेंगे कि यूक्रेन पर रूसी कार्रवाई के खिलाफ क्या कदम उठाया जाए. सम्मेलन में 53 देशों के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं.

यूक्रेन ने सेना को वापस बुलाया

यूक्रेन के अंतरिम राष्ट्रपति अलेक्जेंडर तुर्चीनोव ने क्रीमिया से यूक्रेन के सैन्य बलों को वापस आने के आदेश दे दिए हैं. रूसी सैन्य बलों से यूक्रेनी सैनिकों को बढ़ते खतरे को देखते हुए यह फैसला किया गया. यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय के अनुसार रूसी सैनिकों ने सोमवार को क्रीमिया में फियोडोसिया के नौसैनिक अड्डे को भी कब्जे में कर लिया. यह 48 घंटों में इस तरह का तीसरा हमला था.

यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता व्लादिस्लाव सेलेजन्योव के मुताबिक आज सुबह रूसी सैनिकों ने पूर्वी क्रीमिया के फियोडोसिया नौसैनिक अड्डे पर बख्तरबंद गाड़ियों और ग्रेनेड से हमला किया. कुछ रूसी सैनिक सैन्य अड्डों पर हेलिकॉप्टर से भी उतरे.

सेलेजन्योव ने बताया कि इसके बाद रूसी सैनिकों ने यूक्रेनी सैनिकों को नौसैनिक अड्डे से बाहर निकाला. यूक्रेनी सैनिकों के हाथ बंधे थे.

अंतरराष्ट्रीय विरोध के बावजूद पिछले हफ्ते रूस ने जनमत संग्रह के बाद क्रीमियाई अधिकारियों की सहमति से क्रीमिया को अपने अधिकार क्षेत्र में शामिल कर लिया. इसके बाद से मॉस्को क्रीमिया के सभी सैन्य ठिकानों को एक एक कर कब्जे में कर रहा है.

इससे पहले शुक्रवार रात से दो अन्य हमलों में रूस ने क्रीमिया के अन्य सैन्य ठिकानों पर कब्जा जमा लिया. फियोडोसिया आखिरी बचा नौसैनिक अड्डा था जिस पर यूक्रेन का कब्जा था.

हमले की नहीं थी उम्मीद

हमले से कुछ घंटे पहले ही यूक्रेनी सैनिकों ने कहा था कि उन्हें इस हमले की उम्मीद नहीं. जब उन पर हमला हुआ वे शांतिपूर्वक अपना सामान समेट रहे थे. इससे एक दिन पहले ही यूक्रेनी सेना के लेफ्टिनेंट अनातोली मोज्गोवोई ने कहा था कि "सब कुछ ठीक है. हम जा रहे हैं और हमें किसी हमले की आशंका नहीं है. लेकिन हमारे सैनिक अंत तक लड़ने के लिए तैयार हैं." उनके मुताबिक कुछ सैनिक रूसी सेना में शामिल होना चाहते हैं और कुछ जाना चाहते हैं.

मोज्गोवोई ने कहा, "हमारे पास यहां बहुत सारे हथियार हैं. रूस के पास पहले ही बहुत सारे हथियार हैं और अगर हम अपने हथियार अपने साथ ले जाते हैं तो मुझे नहीं लगता रूस को कोई दिक्कत होगी."

एसएफ/एजेए (एएफपी/डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री