1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

हूजी भी अमेरिका की आतंकी सूची में

अमेरिकी सरकार ने पाकिस्तानी संगठन हरकत उल जिहाद को आतंकवादी संगठनों की सूची में शामिल कर लिया है. उस पर भारत और पाकिस्तान में कई आतंकवादी हमलों के आरोप हैं जिनमें बड़ी संख्या में लोग मारे गए हैं.

default

अमेरिकी वित्त मंत्रालय ने कहा है कि संगठन और उसके सरगना इल्यास कश्मीरी की संभावित संपत्ति को फ्रीज किया जा रहा है. यह फैसला विदेश मंत्रालय द्वारा हरकत उल जिहाद को आतंकवादी सूची पर डालने के फैसले पर आधारित है.

अमेरिकी सरकार के इस फैसले के बाद अब अमेरिकी नागरिकों पर हरकत उल जिहाद के साथ व्यक्तिगत और वित्तीय संपर्क रखने पर पाबंदी होगी. इस संगठन की बांग्लादेशी शाखा पहले से ही आतंकवादी सूची में थी.

अमेरिकी वित्त मंत्रालय ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र ने भी शुक्रवार को हरकत उल जिहाद इस्लामी संगठन को आतंकवाद वाली सूची में डालने का फैसला लिया है.

अमेरिका हरकत उल जिहाद को पाकिस्तानी वित्तीय महानगर कराची में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास पर आत्मघाती हमले के लिए जिम्मेदार मानता है. 2006 में हुए इस हमले में 4 लोग मारे गए थे. इसके अलावा उसने भारत में कई हमले किए हैं जिनमें दर्जनों लोग मारे गए हैं.

उधर अमेरिका में लम्बे समय से रहने वाले एक व्यक्ति के आतंकी नेटवर्क अल कायदा में तेजी से आगे बढ़ने पर अमेरिकी सुरक्षा अधिकारी परेशान हैं. एफबीआई का कहना है कि 2003 से खोजा जा रहा अदनाद शुकरी जुमाह इस्लामी आतंकी संगठन का नया ऑपरेशन प्रमुख है.

सऊदी अरब में पैदा हुआ शुकरीजुमाह बचपन और किशोरावस्था में 15 साल तक अमेरिका के न्यूयार्क और फ्लोरिडा में रहा है. 2001 में वह अफगानिस्तान गया जहां उसने अल कायदा के कैंप में प्लेट धोने का काम शुरू किया और बाद में उनका योजना प्रमुख बन गया. अधिकारियों का मानना है कि 35 वर्षीय शुकरीजुमाह अमेरिका को अच्छी तरह जानने के कारण एक गंभीर आतंकी खतरा है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एस गौड़