1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हिंसा के बाद मेघालय में तनाव, 1,500 घर खाक

भारी हिंसा के बाद मेघालय और असम के कई इलाकों में तनाव. दो समुदायों के बीच हुए हिंसा में 1,500 से ज्यादा मकान जला दिए गए. मेघालय के 26 गांवों में कर्फ्यू जैसी स्थिति. उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश.

default

मेघालय की पुलिस ने हिंसा के बाद में 103 लोगों को गिरफ्तार किया है. राज्य पुलिस के मुताबिक एक जनवरी से शुरू हुई हिंसा में अब तक 26 गांव बर्बाद हो चुके हैं. उपद्रवियों ने असम सीमा से सटे मेघालय के गांवों में करीब 1,500 घरों को पूरी तरह खाक कर दिया.

राज्य के डीजीपी एसबी खाखती के मुताबिक हालात अब भी तनावपूर्ण बने हुए हैं. उन्होंने कहा, ''इलाके में अब भी कई तरह की अफवाहें उड़ाई जा रही है. इन अफवाहों में दूसरी तरफ का जिक्र किया जा रहा है और कहा जा रहा है कि वहां तो ऐसा हो रहा है. इससे भ्रम और नुकसान हो रहा है.''

इस बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय की एक टीम असम पहुंची है. मंगलवार को मेघालय के मुख्य सचिव गृह मंत्रालय के अधिकारियों से बातचीत करेंगे. यह मुलाकात गुवाहाटी में होगी और इसमें असम सरकार के अधिकारी भी हिस्सा लेंगे. इस बीच भारी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बल के जवानों को हिंसा प्रभावित इलाकों में तैनात कर दिया गया है. उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए गए हैं.

असम की सीमा से सटे मेघालय के ईस्ट गारो हिल्स जिले और उसके आसपास के इलाकों में एक जनवरी से ही हिंसा भड़की हुई है. रिपोर्टों के मुताबिक एक युवक की हत्या के बाद गारो और राभा आदिवासी समुदायों के बीच हिंसा भड़क उड़ी. दोनों पक्षों ने एक दूसरे के गांव के गांव आग के हवाले कर दिए. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: एन रंजन

DW.COM

WWW-Links