1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हिंदू संगठनों के निशाने पर आई पीके

आमिर खान की फिल्म 'पीके' का देश भर में जारी विरोध अब हिंसक रूप अख्तियार कर रहा है. विरोध कर रहे हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने आज दिल्ली के एक सिनेमाघर में भी तोड़फोड़ की और फिल्म पर बैन की मांग की.

दिल्ली के एक सिनेमा हॉल में बजरंग दल और अन्य हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने तोड़फोड़ की और फिल्म के पोस्टर जला दिए. फिल्म के निर्माताओं और कलाकारों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की जा रही है. विश्व हिंदू परिषद समेत कई हिंदू संगठन फिल्म पर प्रतिबंध लगाए जाने की मांग कर रहे हैं. अहमदाबाद और भोपाल में भी तोड़फोड़ के मामले सामने आए हैं.

हिंदू संगठनों का आरोप है कि फिल्म में हिंदू धर्म और धार्मिक गुरुओं का मजाक उड़ाया गया है. फिल्म के विरोध की की खबरें उत्तर प्रदेश में मऊ और आगरा और मध्य प्रदेश में भोपाल से भी आ रही हैं. खबरों के मुताबिक मुंबई के परेल इलाके के एक सिनेमाघर ने विरोध के बीच फिल्म का प्रदर्शन रोक दिया. द्वारकापीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती और योगगुरु बाबा रामदेव सहित अन्य धर्म गुरुओं ने भी 'पीके' के संवादों के खिलाफ विरोध दर्ज कराया था. उसके बाद से देशभर में प्रदर्शनों में तेजी आ गई है.

हालांकि पीके अपने आप में पहली फिल्म नहीं है जिसने धार्मिक आस्थाओं और उनसे जुड़े तौर तरीकों पर सवाल उठाए हों. इससे पहले आई परेश रावल और अक्षय कुमार की फिल्म ओ माई गॉड ने भी इसी सवाल को उठाया था. फिल्म की बुराई करने वाले सोशलमीडिया पर #BoycottPk के साथ लिख रहे हैं. हालांकि खुद भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने पीके की तारीफ की है.

विपक्षी कांग्रेस पार्टी ने सिनेमा हॉलों में तोड़-फोड़ की निंदा की और आरोप लगाया कि भाजपा सरकार खामोश रह कर इसे शह दे रही है. कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने कहा कि पीके पर हमला अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर प्रहार है. उन्होंने ट्वीट कर सवाल किया कि बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की वकालत करने वाले कहां हैं.

इससे पहले फिल्म के पहले पोस्टर के खिलाफ जनहित याचिका डाली गई थी जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था. इस पोस्टर में आमिर खान को अर्द्धनग्न अवस्था में रेलवे ट्रैक पर दिखाया गया है. सेंसर बोर्ड ने कहा कि फिल्म की रिलीज की इजाजत सोच समझ कर दी गई है. आब आगे इस पर प्रतिबंध का फैसला सरकार ही ले सकती है.

एक ओर फिल्म का जमकर विरोध हो रहा है तो दूसरी तरफ फिल्‍म की कमाई 300 करोड़ के पार हो गई है. बॉक्स ऑफिस के जानकारों का कहना है कि विरोध प्रदर्शन के कारण दर्शक ये जानने को उत्‍सुक हैं कि फिल्‍म में ऐसा क्या है जिसने हिन्‍दू संगठनों की नींद उड़ा रखी है. राजकुमार हिरानी के निर्देशन में बनी फिल्म पीके में मुख्य किरदार निभाने वाले अभिनेता आमिर खान ने कहा कि वह हिंदू धर्म का आदर करते हैं और यह फिल्म किसी धर्म के खिलाफ नहीं है.

DW.COM

संबंधित सामग्री