1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हार से बदहवास हो रहा है आईएस

कट्टरपंथी इस्लामिक स्टेट के जिहादी तत्व आने वाले दिनों में पूरी दुनिया में और हमले कर सकते हैं. कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि सीरिया और इराक में दबाव में आने के कारण आईएस अब नए ठिकानों को निशाना बना सकता है.

एक वरिष्ठ अमेरिकी जनरल ने चेतावनी दी है कि हाल ही में इंडोनेशिया और तुर्की में हुए आईएस के हमलों की ही तरह आने वाले समय में और वारदातें होने की संभावना है. जनरल लॉयड ऑस्टिन अमेरिकी सेना के मध्यपूर्व ऑपरेशन के मुखिया हैं. उनका तर्क है कि हाल में तुर्की और इंडोनेशिया के उदाहरण इस बात के सबूत हैं कि इस्लामिक स्टेट कमजोर पड़ा है.

फ्लोरिडा में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए जनरल ऑस्टिन ने कहा, "इराक और सीरिया में आइसिल बचाव की भूमिका में आ गया है." उन्होंने कहा, "हमें लगता है कि भविष्य में ज्यादा से ज्यादा ऐसी आतंकी वारदातें सामने आएंगी जैसे हमले हाल ही में बगदाद, तुर्की और जकार्ता में दिखे."

आईएस ने 2014 और 2015 के बीच इराक और सीरिया का काफी बड़ा हिस्सा अपने कब्जे में ले लिया था. कई शहरों को लूटने, हथियाने और वहां अपनी खिलाफत स्थापित करने वाले आईएस को हाल ही में कई मोर्चों पर मुंहकी खानी पड़ी है. अमेरिकी नेतृत्व में लड़ रहे स्थानीय बल ने इराक में उनके कब्जे से रामादी शहर को भी आजाद करा लिया है.

अमेरिका समर्थित गठबंधन सेना लगातार आतंकी समूह के कब्जे में आए तेल के ठिकानों और उससे जुड़ी अर्थव्यवस्था को तबाह कर रहा है. अमेरिकी सेना ने बताया है कि हाल ही में उन्होंने आईएस के कब्जे वाले इराकी शहर मोसुल में उनके कई अरब डॉलर की रकम वाले ठिकाने को नष्ट कर दिया.

जनरल ऑस्टिन का मानना है कि इस तरह के कई नुकसान झेल रहा आईएस इससे ध्यान हटाने के लिए अब इन इलाकों के बाहर के देशों को सुनियोजित ढंग से निशाने पर ले रहा है. इस प्रक्रिया में आतंकी वारदातों को अंजाम देने के लिए आईएस अलग अलग नामों का इस्तेमाल भी कर रहा है. जनरल ऑस्टिन ने कहा, "इसका मतलब हमें ये समझना चाहिए कि आईएस को मात देने में हम कामयाब हो रहे हैं."

आरआर/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री