1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हर पांचवें तलाक की वजह बन रहा है फेसबुक

फेसबुक और ट्विटर के बारे में कहा जाता है कि इसके जरिए दुनिया भर के लोग एक दूसरे के पास आ रहे हैं, हजारों मीलों की दूरियां मिट रही हैं. लेकिन घर के हालात दूसरे हैं. हर पांचवें तलाक की वजह भी बन रहा है फेसबुक.

default

एक सर्वे में चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं. सर्वे के परिणाम के मुताबिक अमेरिका में हर पांचवें तलाक के पीछे सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट जैसे फेसबुक और ट्विटर का हाथ हो सकता है. यह सर्वेक्षण अमेरिकन अकैडमी ऑफ मैट्रीमोनियल लॉयर्स ने किया है. सर्वे बताता है कि तलाक के मुकदमे लड़ने वाले वकील भी पुष्टि करते हैं कि लोग अपने साथी की बेवफाई साबित करने के लिए फेसबुक सबूतों का सहारा ले रहे हैं.

Rechtsextreme in Netzwerken im Internet


फेसबुक पर प्रेम और चुहलबाजी भरे संदेश, फोटो के जरिए अब यह साबित करने की कोशिश होती है कि जीवनसाथी का बर्ताव सही नहीं है और हालात ऐसे हो गए हैं कि अब मतभेदों को मिटाया नहीं जा सकता. कई ऐसे मामले सामने आए जिसमें फेसबुक के जरिए लोगों ने अपने उन संबंधों को फिर शुरू कर दिया जो सालों पहले खत्म हो चुके थे या फिर युवक युवती का लंबे समय से आपस में कोई संपर्क नहीं था.

प्रेम संबंधों या शादियों को तोड़ने में फेसबुक सबसे आगे है. वकील बताते हैं कि तलाक के लिए फेसबुक से जुड़े सबूतों को 66 फीसदी इस्तेमाल किया जा जाता है. दूसरे स्थान पर माइ स्पेस (14 फीसदी) आता है, तीसरे पर ट्विटर (5 प्रतिशत) और फिर आखिरी स्थान पर अन्य सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट हैं.

डिवोर्स ऑनलाइन वेबसाइट चलाने वाले मार्क कीनन का कहना है कि आम तौर पर देखा गया है कि लोग उन लोगों के साथ सेक्स संबंधी बातचीत में लिप्त हो जाते हैं जिन लोगों के साथ उन्हें यह नहीं करना चाहिए.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: वी कुमार

DW.COM

WWW-Links