1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

'हर किसी के सपने जायज'

सर्वश्रेष्ठ सहअभिनेत्री का ऑस्कर जीतने वाली लुपिटा न्योंगो के ये शब्द सोशल मीडिया पर चर्चा में हैं. अपनी पहली ही फिल्म '12 इयर्स ए स्लेव' के लिए ऑस्कर जीतने वाली न्योंगो पहली केन्याई ऑस्कर विजेता हैं. क्या है उनकी कहानी?

ऑस्कर के अलावा ढेरों प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय समारोहों में पुरस्कार जीत चुकी न्योंगो की यह पहली फिल्म है. इस फिल्म में बंधक बनाई गई लड़की 'पैट्सी' के किरदार के जरिए न्योंगो ने हॉलीवुड की बड़ी हस्तियों का भी दिल जीत लिया. येल स्कूल ऑफ ड्रामा से स्नातक की पढ़ाई करने वाली 31 साल की न्योंगो केन्याई मूल की हैं. ऑस्कर के लिए उनके नाम की घोषणा होने पर वे बेहद भावुक हो गईं. उन्होंने फिल्म में अपने साथी कलाकारों, निर्देशक और अपने दोस्तों को गले लगाया. रूंधे गले से मंच पर उन्होंने सबका आभार कुछ इस अंदाज में व्यक्त किया कि वहां मौजूद सभी भावुक होकर खड़े हो गए.

अंत में ट्रॉफी की तरफ देखते हुए न्योंगो ने कहा, "जब मैं गोल्डन स्टैच्यू को देखती हूं तो ऐसा लगता है कि यह मुझे और हर बच्चे को याद दिलाता है कि आप दुनिया के किसी भी कोने से हों, हर किसी के सपने जायज हैं." उनके इन शब्दों का स्वागत तालियों की गूंज के साथ हुआ. फेसबुक पर न्योंगो का भाषण खूब शेयर किया जा रहा है, और इसकी खूब तारीफ भी हो रही है. इससे पहले न्योंगो पैट्सी के किरदार के लिए स्क्रीन एक्टर्स गिल्ड और क्रिटिक्स च्वाइस अवॉर्ड भी अपने नाम कर चुकी हैं.

Filmstill 12 Years a Slave

फिल्म '12 इयर्स ए स्लेव' में पैट्सी के किर्दार में न्योंगो

बचपन का सपना

न्योंगो का जन्म मेक्सिको में हुआ था, इसी कारण उन्हें स्पैनिश नाम मिला. उनके पिता वहां यूनिवर्सिटी में समाजशास्त्र पढ़ाते थे. छह बच्चों में न्योंगो दूसरी संतान हैं. वह केन्या में बड़ी हुईं. उनके पिता पीटर अन्यांग न्योंगो केन्या के स्वास्थ्य मंत्री भी रहे. केन्या में एक मजबूत राजनीतिक पृष्ठभूमि से आने वाले बच्चों के लिए अभिनय का क्षेत्र चुनना आम नहीं है. लेकिन उनके पिता ने बताया कि परिवार ने न्योंगो के सपनों का हमेशा समर्थन किया.

उन्होंने बताया, "उसने अभिनय करना बहुत छोटी उम्र में ही शुरू कर दिया था जब वह किंडरगार्टेन जाती थी, या कभी परिवार वालों के साथ ही, वह अपने मन से कहानियां गढ़ कर लाती थी और हमारे सामने अभिनय करके दिखाती थी. उसमें रचनात्मकता और काल्पनिकता हमेशा से थी." 2005 में उन्होंने द कांस्टेंट गार्डनर नाम के ड्रामा में प्रोडक्शन असिस्टेंट के तौर पर काम किया. तभी से वह अभिनय करना चाहती थीं. इसी बीच अभिनेता राल्फ फिनिस ने उन्हें सलाह दी कि अगर वह अभिनय के बिना जिंदा नहीं रह सकतीं तो अभिनय करना शुरू करें. न्योंगो ने बताया, "यह वह नहीं था जो मैं सुनना चाहती थी, लेकिन यह वह था जो सुनने की मुझे जरूरत थी.

हाथ से जा सकती थी फिल्म

अपनी पहली ही फिल्म 12 इयर्स ए स्लेव के लिए न्योंगो ने ऑस्कर अपने नाम कर लिया. उन्होंने बताया कि यह रोल उनके हाथ से निकलने वाला था क्योंकि फिल्म के निर्देशक स्टीव मैकक्वीन को लगता था कि वह इस किरदार के लिए ज्यादा सुंदर हैं. फिल्म समीक्षकों ने भी पैट्सी के किरदार में उनके काम की जमकर तारीफ की है. खासकर उस दृश्य की जिसमें पैट्सी को नग्न हालत में पेड़ से बांधकर कोड़े लगाए जाते हैं.

न्योंगो अब जल्द ही लियम नीसन के साथ थ्रिलर फिल्म 'नॉन स्टॉप' में दिखाई देंगी. लेकिन करियर के शुरुआत में उन्हें भी ढेरों मुश्किलों का सामना करना पड़ा.

नैरोबी में न्योंगो के साथ काम कर चुकीं केन्याई अभिनेत्री एंटनी म्वांगी ने बताया, "उसने मुझे बताया था कि अमेरिका में पहले से ही इतने सारे कलाकार हैं. उसके अश्वेत रंग, छोटे बाल, केन्याई उच्चारण और नाम के साथ बहुत सारी मुश्किलें हैं." न्योंगो ने कहा कि वह अश्वेत अभिनेताओं की आने वाली पीढ़ी के लिए प्रेरणा स्रोत बनना चाहती हैं, "देखा जाए तो मैं छोटी लड़कियों के लिए जो कर रही हूं यह वही है जो मेरे लिए ओपरा विंफ्री और वुपी गोल्डबर्ग ने किया."

रिपोर्ट: समरा फातिमा (एएफपी)

संपादन: महेश झा

DW.COM

संबंधित सामग्री