हरी सब्जी खाइए, मधुमेह से बचिए | विज्ञान | DW | 20.08.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

हरी सब्जी खाइए, मधुमेह से बचिए

हरी पत्तेदार सब्जियां अगर रोज खाई जाएं तो मधुमेह की बीमारी से बचा जा सकता है. ब्रिटिश मेडिकल जर्नल की एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है. हालांकि रिपोर्ट बनाने वालों का कहना है कि अभी और रिसर्च करने की जरूरत है.

default

दो लाख से ज्यादा लोगों पर हुए परीक्षणों के जरिए इंग्लैंड की लिसेस्टर यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने हरे पत्ते वाली सब्जियों और वयस्कों में होने वाले टाइप-2 मधुमेह के बीच रिश्ता कायम कर लिया. परीक्षणों में साफ है कि हरी सब्जियां खाने वाले लोगों में इस बीमारी का खतरा कम हो जाता है. अगर भोजन में एक सब्जी जरूरी

Ein dicker Mann 2

मोटापे से बढ़ता है शूगर

मात्रा में शामिल कर लिया जाए, तो शुगर के खतरे को 14 फीसदी तक कम किया जा सकता है. हालांकि बहुत ज्यादा फल और सब्जियां खाने से ये असर खत्म हो जाता है.

हरी पत्तियों में एंटीऑक्सिडेंट और मैग्नेशियम की मात्रा ज्यादा होती है लेकिन इसे पचाने के लिए ज्यादा मेहनत भी करनी पड़ती है. इसी तरह के एक रिसर्च में वैज्ञानिकों ने चीन में मिलने वाली कुछ हरी जड़ी बूटियों के सत्व को शुगर रोकने में काफी असरदार पाया. हालांकि ये परीक्षण चूहों पर किए गए. इसका नाम है इमोडिन. यह इंसुलिन के लिए प्रतिरोधक का काम करता है. इंसुलिन हार्मोन खून में से मिठास की अधिक मात्रा को काबू में रखता है.

ये तो जगजाहिर है कि खानपान और एक्सरसाइज के जरिए इस बीमारी से बचा जा सकता है. इस पर बड़ा विवाद है कि खानपान में ऐसा क्या शामिल किया जाए जो शुगर के खतरे को खत्म कर सके. इसीलिए दुनिया में कई बड़े संस्थान इस पर रिसर्च कर रहे हैं. आम तौर पर शुगर के इलाज के लिए इंसुलिन का इंजेक्शन दिया जाता है. खून में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने वाली दवाइयों का किडनी पर काफी बुरा असर होता है.

टाइप-2 का मधुमेह सबसे ज्यादा लोगों को अपना शिकार बनाता है. ये बीमारी अमीर देशों की तरफ से विकासशील देशों की तरफ तेज़ी से बढ़ रही है. ऐसे देशों में ज्यादा मिठाई और चिकनाई वाला खानपान और आरामपसंद जीवनशैली इसकी बड़ी वजह है. इस समय दुनिया में 22 करोड़ से ज्यादा डायबिटीज के मरीज हैं. हर साल 10 लाख से ज्यादा लोगों की मौत इसके कारण से हो रही है. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक जिस तरह से लोगों में मोटापा बढ़ रहा है अगले 10 सालों में ये संख्या दोगुनी हो सकती है.

रिपोर्टः एएफपी/एन रंजन

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links