1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

हरी घास पर किसका रैकेट चलेगा

सात बार के विजेता रोजर फेडरर का रफाएल नडाल से सामना लगता है विंबलडन के क्वार्टर फाइनल में ही हो जाएगा. उधर वीनस के ना होने से सेरेना का दावा मजबूत है लेकिन कुछ नई परियां उलटफेर कर सकती हैं.

हरी हरी घास वाले कोर्ट पर ग्रैंड स्लैम के लिए शुक्रवार को जब ड्रॉ निकला तो नडाल और फेडरर एक ही ग्रुप में आ गए और इसका मतलब है कि क्वार्टर फाइनल में भी इनकी टक्कर हो सकती है. किसी ग्रैंड स्लैम में आज तक इनका मुकाबला इतना पहले नहीं हुआ.  इंग्लैंड के दुलारे एंडी मरे भी इसी हिस्से में हैं और इसका मतलब है कि उनका सामना सेमीफाइनल में नडाल या फेडरर से हो सकता है. टूर्नामेंट के दूसरे हिस्से में जोकोविच अकेले बड़े सितारे हैं और फाइनल तक का उनका सफर ज्यादा आसान रहने की उम्मीद की जा रही है. मुमकिन है कि सेमीफाइनल में उनकी भिड़ंत डेविड फेरर से हो.

जल्दी मैच

नडाल और फेडरर तीन बार विंबडलन के फाइनल में एक दूसरे के सामने आए हैं लेकिन कभी भी उन्होंने सेमीफाइनल से नीचे का मुकाबला एक दूसरे से नहीं किया. फेडरर ने सात और नडाल ने दो बार विंबडलन की ट्रॉफी उठाई है. पिछले साल फेडरर ने एडी मरे को हरा कर रिकॉर्ड सातवीं बार विंबलडन की ट्रॉफी जीती. मरे ने बाद में ओलंपिक में फेडरर को हरा कर हिसाब बराबर किया और फ्रेड पेरी के बाद विंबलडन जीतने वाले पहले ब्रिटिश खिलाड़ी बनने के लिए इस बार भी वह पूरा दम लगाएंगे. इसी हफ्ते की शुरुआत में एंडी मरे ने बड़ी साफगोई से कहा था कि वो ड्रॉ की परवाह नहीं करते क्योंकि जानते हैं कि विंबलडन में ब्रिटेन का अकाल मिटाने के लिए उन्हें दुनिया के बेहतरीन खिलाड़ियों को हराना होगा.

नडाल रिकॉर्ड आठवीं बार फ्रेंच ओपन जीतने के बाद सीधे विंबलडन आए हैं. नडाल ने हाले न जा कर आराम किया तो फेडरर ने वहां जीत कर विंबलडन के लिए अपना आत्मबल मजबूत किया. विंबलडन के लिए वार्म आप समझे जाने वाले हाले में फेडरर ने सात में से चार बार जीतने के बाद विंबलडन में भी जीत हासिल की है. वैसे इस साल खेले 9 में 7 फाइनल जीतने के बाद नडाल का आत्मविश्वास भी काफी मजबूत है लेकिन चुनौती बड़ी है. उन्हें खिताब जीतने के लिए मुमकिन है कि फेडरर, मरे और जोकोविच को हराना पड़े.

फेडरर, नडाल और मरे टूर्नामेंट के पहले दिन ही कोर्ट पर उतर रहे हैं. फेडरर रोमानिया के विक्टर हानेस्कू से, नडाल बेल्जियम के स्टीव डारसिस और मरे जर्मनी के बेन्यामिन बेकर से भिडे़ंगे. दो साल पहले विंबलडन जीतने वाले जोकोविच जर्मनी के फ्लोरियान मायर के साथ मंगलवार को मैदान में उतरेंगे.

कुछ नए चेहरे

Olympia London 2012 Tennis Frauen

फेवरेट सेरेना

महिलाओं की ड्रॉ में पांच बार की विजेता और टॉप सीड सेरेना विलियम्स लक्जमबर्ग की मैंडी मिनेला के साथ टूर्नामेंट का आगाज करेंगी. दूसरी सीड की विक्टोरिया अजारेंका का पहले दौर में मुकाबला पुर्तगाल की मारिया जोआओ कोहलर से है. पीठ में चोट के कारण मुकाबले से बाहर हुई बहन वीनस की गैरमौजूदगी में सेरेना 17वें ग्रैंड स्लैम खिताब के लिए दावा ठोंक रही हैं और उन्हें प्रबल दावेदार भी माना जा रहा है. पिछले साल फ्रेंच ओपन के पहले दौर की हार के बाद सेरेना ने सिर्फ 3 हार के साथ रिकॉर्ड 74 जीतें दर्ज की है और पिछले चार बड़े टूर्नामेंट पर भी कब्जा किया है. तीसरे सीड की मारिया शारापोवा अपना विंबलडन अभियान क्रिस्टीना म्लादेनोविच के खिलाफ शुरू करेंगी.

यह तो हुई दिग्गजों की बात लेकिन जानकारों की नजर कुछ नई परियों पर है. जून 28 तक उनकी उम्र 17 साल भी नहीं होगी और डोना वेकिच पहला विंबलडन खेलने जा रही हैं. लंबी, ब्लॉन्ड, और आत्मविश्वास से भरी क्रोएशियाई बाला लंदन में रहती है और मैदान में उतरने से पहले ही उनकी तुलना मारिया शारापोवा से की जाने लगी है. शारापोवा ने 17 साल की उम्र में ही विंबलडन जीत लिया था. इसी तरह 90 वें नंबर पर मौजूद रूस में जन्मी कजाख बाला यूलिया पुतिन्त्सेवा की लंबाई तो महज 1.63 मीटर है लेकिन इरादे बहुत ऊंचे. वैसे उन पर उनके प्रतिद्वंद्वी ने बेहद खराब खेल भावना रखने का आरोप लगाया था.

एनआर/एएम (एपी, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री