1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हमले रोके इस्राएल: फलीस्तीन

गाजा पट्टी पर रात भर हवाई हमले के बाद फलीस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने इस्राएल से हमले रोकने की मांग की है. इस्राएल ने हवाई हमला फलीस्तीनी संगठन हमास की ओर से दक्षिणी इस्राएल में दागे गए रॉकटों के जवाब में किया.

इस्राएल के हवाई हमले में नौ लोगों की जान चली गई. राष्ट्रपति अब्बास ने अंतरराष्ट्रीय समुदायों से भी मांग की है कि वे इलाके को विनाश और अस्थिरता की बढ़ती आशंकाओं से बचाने के लिए हस्तक्षेप करें. फलीस्तीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी वाफा के अनुसार राष्ट्रपति कार्यालय से मध्यरात्रि के बाद जारी बयान में कहा गया, "फलीस्तीनी राष्ट्रपति ने इस्राएस से गाजा पर हमले को फौरन रोकने की मांग की है." अब्बास के मुताबिक फलीस्तीनी नेता अरब देशों को भी मदद के लिए संपर्क कर रहे हैं ताकि वे इस्राएल पर दबाव बना सकें.

दूसरी ओर गाजा पर हमले के साथ इस्राएली सेना ने कहा कि वह जमीनी कार्रवाई के लिए भी तैयारी कर रही है. जून में एक फलीस्तीनी किशोर मुहम्मद अबु खादेर की हत्या को उससे पहले तीन इस्राएली युवाओं के अपहरण और उनकी मौत के बदले के रूप में देखा गया. इसके बाद से ही इस्राएल और हमास के बीच तनाव बढ़ गया है.

इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस्राएल और फलीस्तीन दोनों से हिंसा रोकने की मांग की है. इस्राएली अखबार हारेत्स के संपादकीय में छपा है कि ओबामा ने इसे खतरनाक घड़ी के रूप में संबोधित किया है. उन्होंने मारे गए तीनों इस्राएली युवाओं के माता पिता के प्रति सहानुभूति भी जताई. साथ ही उन्होंने फलीस्तीनी युवा की हत्या पर भी दुख जताया.

हीब्रू, अरबी और अंग्रेजी भाषाओं में छपे ओबामा के कमेंट इस्राएल और फलीस्तीन के बीच आपसी बदले के तहत बढ़ रही हिंसा की तरफ अमेरिका की चिंता दिखाते हैं. तीन इस्राएली युवाओं की लाशें बरामद होने के बाद ओबामा ने इस बारे में एक छोटी सी लिखित विज्ञप्ति तो जारी की, लेकिन इस बारे में सार्वजनिक रूप से कुछ नहीं कहा.

एसएफ/एजेए (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री