हनोवर में आईटी महाकुंभ | विज्ञान | DW | 05.03.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

हनोवर में आईटी महाकुंभ

दुनिया के सबसे बड़े कंप्यूटर मेले ने जर्मन शहर हनोवर में आज से अपने दरवाजे खोल दिए. चांसलर अंगेला मैर्केल ने मेले का उद्घाटन करते हुए यूरोप में आईटी उद्योग के लिए सही ढांचा बनाने की मांग की है.

हनोवर फिर से इस हफ्ते डिजीटल दुनिया का मक्का है. शनिवार तक चलने वाले मेले सेबिट में 70 देशों के 4,100 उद्यम नवीनतम तकनीकी और डिजीटल अर्थव्यवस्था के रुझानों का प्रदर्शन कर रहे हैं. सेबिट ने इस साल इंटरनेट के जरिए उत्पादों और संसाधनों की हिस्सेदारी को अपना मुख्य विषय बनाया है. मेले का नारा है, शेयर इकोनॉमी.

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने सोमवार शाम हनोवर कंप्यूटर मेले का उद्घाटन किया और मंगलवार सुबह मेले के मंडपों का परंपरागत दौरा कर मेले को आम लोगों के लिए खोल दिया. अपने उद्घाटन भाषण में मैर्केल ने आईटी की दुनिया में हो रहे तेज विकास का सही राजनीतिक ढांचे के साथ समर्थन करने की वकालत की ताकि वैश्विक होड़ में यूरोप पीछे न रह जाए. उन्होंने उम्मीद वाली परियोजनाओं के बेहतर समर्थन पर जोर देते हुए कहा, "हमें ध्यान देना होगा कि हम कंपनी खोलने की संस्कृति विकसित करें. यह मैं सिर्फ जर्मनी के लिए नहीं कह रही हूं बल्कि पूरे यूरोपीय संघ के लिए कह रही हूं."

इस साल के कंप्यूटर मेले में पोलैंड पार्टनर देश है. उद्घाटन के मौके पर पोलैंड के प्रधानमंत्री डोनल्ड टुस्क भी मैर्केल के साथ मौजूद थे. जर्मन चांसलर ने कहा कि ऐसा माहौल बनाया जाना चाहिए ताकि कंपनियों का खोला जाना नौकरशाही पर निर्भर न रहे.

बहुराष्ट्रीय अंतरिक्ष और विमानन कंपनी ईड्स के प्रमुख थोमस एंडर्स ने मंगल ग्रह वाले रोबोट ब्रिजेट का प्रदर्शन किया. उन्होंने शिकायत की कि उद्योग जगत आविष्कारों के मामले में आईटी के साथ कदम नहीं मिला पा रहा है. उन्होंने नई खोजों में बढ़ती खाई की ओर ध्यान दिलाते हुए कहा कि ब्रिजेट जब 2018 में मंगल ग्रह के लिए रवाना होगा तो कंप्यूटर की क्षमता आज की तुलना में तिगुनी हो चुकी होगी.

कंप्यूटर मेले के मौके पर आईटी संगठन बिटकॉम ने जर्मन आईटी सेक्टर के लिए अच्छे विकास की उम्मीद जताई है. स्मार्टफोन और टैबलेट कंप्यूटर की भारी मांग की वजह से बाजार में गति बनी रहेगी. हालांकि विकास दर के कुछ धीमा होने के संकेत हैं लेकिन बिटकॉम के अनुसार पिछले साल के 2.2 प्रतिशत के बदले इस साल 1.4 प्रतिशत के विकास दर की उम्मीद है. इसका मतलब 2013 में जर्मन आईटी सेक्टर में 153 अरब यूरो की बिक्री होगी. बिटकॉम के प्रमुश डीटर केंफ के अनुसार अर्थव्यवस्था की दूसरी शाखाओं की तुलना में आईटी के आंकड़े बेहतर हैं, जिसका असर रोजगार बाजार पर भी होगा.

जर्मनी में टैबलेट कंप्यूटरों की बिक्री 11 प्रतिशत की तेजी के साथ 2.3 अरब यूरो होने की उम्मीद है. डाटा का रिमोट स्टोरिंग करने वाले क्लाउड कंप्यूटिंग का बाजार तेजी से बढ़ रहा है. कंपनियों को इस साल 4.6 अरब यूरो के टर्नओवर की उम्मीद है जो पिछले साल के मुकाबले 53 प्रतिशत की वृद्धि होगी. 2016 तक यह कारोबार 13.7 अरब यूरो हो जाएगा. पिछले चार सालों में स्मार्ट फोन ने सामान्य मोबाइल फोन की जगह ले ली है. 2009 में उसका हिस्सा सिर्फ 17 प्रतिशत था लेकिन 2013 में बाजार में बिकने वाले मोबाइल फोन में उसका हिस्सा 81 प्रतिशत हो गया है और 8.8 अरब यूरो के बाजार में उसका हिस्सा 96 प्रतिशत है.

बिटकॉम का कहना है कि इस साल दुनिया भर में आईटी पर होने वाला खर्च पांच प्रतिशत से ज्यादा बढ़ेगा और 2,700 अरब यूरो रहेगा. इसमें तेज विकास वाले देशों में भारत सबसे आगे हैं. वहां करीब 14 प्रतिशत, ब्राजील में 9.6 प्रतिशत और चीन में 9 प्रतिशत वृद्धि की संभावना है. इस साल चीन ने जापान को पीछे छोड़कर दूसरे सबसे बड़े राष्ट्रीय बाजार का खिताब हथिया लिया है. अंतरराष्ट्रीय आईटी बाजार में उसका हिस्सा 9.5 प्रतिशत है जबकि जापान का हिस्सा 8.3 प्रतिशत है. 27 प्रतिशत हिस्से के साथ अमेरिका सबसे आगे है.

एमजे/ओएसजे (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links