1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हड़ताल करने पर एयर इंडिया के 17 कर्मचारी बर्ख़ास्त

33 घंटे हड़ताल करने के कारण एयर इंडिया के 17 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया है जबकि 15 इंजीनियरों को निलंबित किया गया है. दिल्ली हाईकोर्ट ने 13 जुलाई तक हड़ताल पर रोक लगा दी है जिसके बाद हड़ताल वापिस ले ली गई.

default

हड़ताल से प्रभावित यात्री

एयर इंडिया के मुख्य प्रबंध निदेशक अरविंद जाधव ने कहा, "हड़ताल ग़ैरकानूनी थी. हमें जवाबदेही तय करनी है और ज़िम्मेदारी भी. जो भी कार्रवाई ज़रूरी है हम करेंगे. हम किसी भी हाल में समझौता नहीं करेंगे. हमें कड़ी कार्रवाई करनी पड़ेगी." दिल्ली हाईकोर्ट से स्टे ऑर्डर मिलने के बाद एयर इंडिया के कर्मचारियों ने हड़ताल ख़त्म कर दी थी. जाधव का कहना था, "हमनें सभी संभावनाएं तलाश कर लेने के बाद ही उच्च न्यायालय का दरवाज़ा खटखटाया. हाईकोर्ट को लगा कि एयरलाइन्स की सेवाएं फिर से शुरू होनी चाहिए."

Air India Flugzeuge

हड़ताल करने के कारण 17 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया जिनमें कई कर्मचारी संघ के भी नेता हैं. जाधव ने कहा, "हम एयरलाइन कंपनी को एक व्यावसायिक, ज़िम्मेदार और अनुशासित संगठन बनाना चाहते हैं. प्रबंधन अनुशासन सुनिश्चित कर रहा है. हम आभारी हैं कि केंद्र सरकार हमारा साथ दे रही है." हालांकि एयर कॉर्पोरेशन कर्मचारी संघ के प्रमुख जीबी कडियन का कर्मचारियों के नौकरी से निकाले जाने और निलंबन के बारे में कहना था कि जब समझौते के लिए बातचीत चल रही हो ऐसे समय किसी भी कर्मचारी को निकाला नहीं जा सकता.

एयर इंडिया की फ्लाइट्स कब तक फिर सामान्य हो सकेंगी इस बारे में जाधव ने बताया कि इसमें कम से कम दो दिन लग सकते हैं. हड़ताल के दौरान एयर इंडिया से यात्रा करने वालों के लिए विशेष बसों का इंतज़ाम किया गया. जाधव ने जानकारी दी कि जेट एयरवेज़, किंगफिशर, इंडीगो और गो एयर सहित कई एयरलाइन्स ने उन्हें सहयोग दिया.

एयर इंडिया कर्मचारियों की तनख्वाह बढ़ाने और अन्य मांगों के बारे में पूछने पर प्रबंध निदेशक ने कहा, "हमने किसी भी बात के लिए मना नहीं किया है. लेकिन इसके लिए हमें मुख्य श्रम आयुक्त के साथ बैठना होगा. वेतन में बढ़ोतरी उत्पादकता और जवाबदेही से जुड़ी होनी चाहिए."

रिपोर्टः पीटीआई/आभा मोंढे

संपादनः एस गौड़

DW.COM