1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

हड़तालियों पर सख्त हुए सारकोजी

फ्रांस में मजदूर संगठनों की हड़ताल ने जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया है. हड़ताल का गुरुवार को आठवां दिन. रेल सड़क और हवाई सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हुईं. जनता रिटायरमेंट की उम्र 60 से बढ़ा कर 62 साल करने का विरोध कर रही हैं.

default

सरकार की नई पेंशन योजना का कर्मचारी और मजदूर संगठन विरोध कर रहे हैं. गुरुवार को देशव्यापी हड़ताल के आठवें दिन हवाई सेवाएं भी बाधित किए जाने पर सरकार को सख्त रुख अख्तियार करना पड़ा है.

राष्ट्रपति निकोला सारकोजी ने सबसे ज्यादा दिक्कत पैदा कर रहे तेलकर्मियों को तेल डिपो से बाहर निकालने का पुलिस को आदेश दे दिया. हड़ताल के चलते फ्रांस में एक तिहाई पेट्रोल पंप सूख चुके हैं. इससे आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है.

गृह मंत्रालय ने अब हड़तालियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के संकेत दिए हैं. सरकार के कड़े रुख को देखते हुए कई जगहों पर प्रदर्शनों में आगजनी भी हो रही है. अब तक करीब 2000 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

Frankreich Proteste Oktober 2010 Flash-Galerie

इस बीच पेरिस में मार्से स्थित हवाई अड्डे को प्रदर्शनकारियों ने ब्लॉक कर दिया. इस वजह से मशहूर पॉप सिंगर लेडी गागा को पेरिस में होने जा रहे अपने दो शो रद्द करने पड़े. गुरूवार को प्रदर्शनकारियों ने हवाई अड़्डे की ओर जाने वाले सभी रास्ते बंद कर दिए. पुलिस द्वारा हड़तालियों की भीड़ को तितर बितर करने से पहले तीन घंटे तक हवाई अड्डा बिल्कुल ठप्प रहा.

इधर फ्रांसीसी संसद में पेंशन सुधार कानून के मसौदे पर चर्चा अंतिम दौर में है और इस पर गुरुवार को मतदान भी हो सकता है. इस बीच सरकार को झुकते न देख कर्मचारी संघों ने हड़ताल को और तेज करने का ऐलान कर दिया है. इसके लिए हुई एक अहम बैठक में संघ के नेताओं ने हड़ताल को तेज करने की रणनीति बनाई.

Frankreich Blockade Benzin Depots NO FLASH

सबसे ताकतवर यूनियन सीजीटी के प्रमुख बर्नार्ड थिबॉल्ट ने बताया कि अगले सप्ताह से कर्मचारियों को पूरी तरह से काम बंद कर सड़कों पर उतरने को कहा गया है. वहीं देश के उद्योग मंत्री क्रिश्चियन एस्ट्रोसी ने हड़ताल से उत्पन्न हालात पर काबू पाने का दावा करते हुए बताया कि बीती रात पुलिस ने एक तेल डिपो को प्रदर्शनकारियों के कब्जे से मुक्त करा लिया है. एस्ट्रोसी ने बताया कि देश भर में मौजूद 200 तेल डिपो में से अब सिर्फ 14 डिपो ही ब्लॉक हैं.

सारकोजी सरकार अपने फैसले पर पूरी तरह से कायम है. सरकार पर पेंशन घाटे और कर्ज के लगातार बढ़ते बोझ को कम करने के लिए रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाने का फैसला किया है. छात्रों से लेकर कर्मचारी तक इसका विरोध कर रहे हैं. इस फैसल से रोजगार के अवसर कम होने की आशंका के चलते अब छात्र भी हड़ताल में कूदने पर विचार कर रहे हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/निर्मल

संपादनः आभा एम

DW.COM